Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 21, 2016 · 1 min read

यादें

जीवन में कुछ साथी
बिछड़कर याद आते हैं ,
वो खुशी थोड़ी ही देते हैं
पर ग़म ज्यादा दे जाते हैै ।

दर्द उनसे बिछड़ने का
रह रह कर रुलाता है ,
संग उनके गुजरा हर पल
याद बहुत ही आता है ।

कितने महकते थे वो पल
जब वो साथ होते थे ,
समय पंख लगाता था
जब वो पास रहते थे ।

यादें उनकी जीवन में
मधुर अहसास देती हैं ,
उनके साथ होने का
एक आभास देती हैं ।

वो क्यों साथ नहीं मेरे
कसक एक ये ही बाकी है
ह्रदय के एक कोने में
छायी हरपल उदासी है ।

कभी आओगे नहीं तुम
ये मुझको भी खबर है ,
मन बहुत ही व्याकुल है
वह बड़ा ही नासमझ है ।

एक गोपी के जीवन में
तुम कृष्णा बन आए हो ,
मुट्ठी भर प्रेम बरसाकर
विरह जीवन में लाए हो ।

डॉ रीता
आया नगर , नई दिल्ली- 47

161 Views
You may also like:
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हर रोज योग करो
Krishan Singh
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
दिया
Anamika Singh
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
चिड़ियाँ
Anamika Singh
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
रिश्ते
Saraswati Bajpai
मन के गाँव
Anamika Singh
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
Loading...