Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2016 · 1 min read

यादें

जीवन में कुछ साथी
बिछड़कर याद आते हैं ,
वो खुशी थोड़ी ही देते हैं
पर ग़म ज्यादा दे जाते हैै ।

दर्द उनसे बिछड़ने का
रह रह कर रुलाता है ,
संग उनके गुजरा हर पल
याद बहुत ही आता है ।

कितने महकते थे वो पल
जब वो साथ होते थे ,
समय पंख लगाता था
जब वो पास रहते थे ।

यादें उनकी जीवन में
मधुर अहसास देती हैं ,
उनके साथ होने का
एक आभास देती हैं ।

वो क्यों साथ नहीं मेरे
कसक एक ये ही बाकी है
ह्रदय के एक कोने में
छायी हरपल उदासी है ।

कभी आओगे नहीं तुम
ये मुझको भी खबर है ,
मन बहुत ही व्याकुल है
वह बड़ा ही नासमझ है ।

एक गोपी के जीवन में
तुम कृष्णा बन आए हो ,
मुट्ठी भर प्रेम बरसाकर
विरह जीवन में लाए हो ।

डॉ रीता
आया नगर , नई दिल्ली- 47

Language: Hindi
Tag: गीत
395 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
तुम मुझे दिल से
तुम मुझे दिल से
Dr fauzia Naseem shad
बाल कविता
बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि  डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
*सुप्रसिद्ध हिंदी कवि डॉक्टर उर्मिलेश ः कुछ यादें*
Ravi Prakash
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
The_dk_poetry
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
SATPAL CHAUHAN
स्वभाव
स्वभाव
Sanjay ' शून्य'
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh Manu
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
■ व्यंग्य / आया वेलेंटाइन डे
■ व्यंग्य / आया वेलेंटाइन डे
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
✴️💢मेरे बढ़ते कदम ठहर से गए हैं💢✴️
✴️💢मेरे बढ़ते कदम ठहर से गए हैं💢✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
खंड 7
खंड 7
Rambali Mishra
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
प्रथम अभिव्यक्ति
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
एकलव्य
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
अभी उम्मीद की खिड़की खुलेगी..
अभी उम्मीद की खिड़की खुलेगी..
Ranjana Verma
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...