Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

यादें

आजकल ना जाने क्यूँ
तुम्हारी कमी खलती है बहुत…
बंद दरवाज़ो में तुम्हारी यादें
सिसकती है बहुत…
ख्वाहिश हैं मेरी ,
मैं बनूँ मुकद्दर तुम्हारा…
टूटे दिल की दीवारें
दर्द देती है बहुत…
लाख दावा करे जिंदगी …
तुम्हें भूल जाने का
बहाने से फिर भी..
तुम्हें याद करती है बहुत…
.लरजते हैं होंठ मुस्कुराने के लिए…और
तेरे दीदार को ये आँखें
तरसती है बहुत…
……निधि भार्गव

Language: Hindi
416 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"महसूस"
Dr. Kishan tandon kranti
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2403.पूर्णिका
2403.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आज की शाम,
आज की शाम,
*प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहां की बात, कहां चली गई,
कहां की बात, कहां चली गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
Bidyadhar Mantry
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
*Flying Charms*
*Flying Charms*
Poonam Matia
खंजर
खंजर
AJAY AMITABH SUMAN
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कितना तन्हा
कितना तन्हा
Dr fauzia Naseem shad
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को समर्पित
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को समर्पित
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
नारी की शक्ति
नारी की शक्ति
Anamika Tiwari 'annpurna '
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
वैनिटी बैग
वैनिटी बैग
Awadhesh Singh
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
आवश्यक मतदान है
आवश्यक मतदान है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
**दुल्हन नई नवेली है**
**दुल्हन नई नवेली है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
Desert fellow Rakesh
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
अधरों ने की दिल्लगी,
अधरों ने की दिल्लगी,
sushil sarna
दृष्टि
दृष्टि
Ajay Mishra
आदमी की संवेदना कहीं खो गई
आदमी की संवेदना कहीं खो गई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*देखा यदि जाए तो सच ही, हर समय अंत में जीता है(राधेश्यामी छं
*देखा यदि जाए तो सच ही, हर समय अंत में जीता है(राधेश्यामी छं
Ravi Prakash
मानस हंस छंद
मानस हंस छंद
Subhash Singhai
Loading...