Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

यादें

सासें हैं क्या याद दिलाती रहती हैं
कोई है कोई है याद आ रहा है।
धूमिल नहीं पड़ती ये बेवफा नहीं,
साथ देने मे उस्ताद हैं, माहिर हैं!
कोई इनसे पूछे क्या हासिल हुआ,
फूँक मारो, तो सुलगते अंगार है ये।
रस्मों रिवाज् से बंधी हैं ये,
जलना जलाना ही नियति बनी है इनकी।
कोई जाये, कोई आये, इठलाना,
इतराना मजबूरी बनी इनकी,
हमें भी तो प्यार इनसे!इनको हमसे?
हमने भी इनसे इन्तहा मोहब्बत की है।।
मधु

Language: Hindi
418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंगमंच
रंगमंच
Ritu Asooja
वक्त  क्या  बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
वक्त क्या बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
करतलमें अनुबंध है,भटक गए संबंध।
करतलमें अनुबंध है,भटक गए संबंध।
Kaushal Kishor Bhatt
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
Blabbering a few words like
Blabbering a few words like " live as you want", "pursue you
Chahat
👌आह्वान👌
👌आह्वान👌
*प्रणय प्रभात*
इश्क की राहों में इक दिन तो गुज़र कर देखिए।
इश्क की राहों में इक दिन तो गुज़र कर देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
3601.💐 *पूर्णिका* 💐
3601.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
"सर्व धर्म समभाव"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"बादल"
Dr. Kishan tandon kranti
आज मैंने खुद से मिलाया है खुदको !!
आज मैंने खुद से मिलाया है खुदको !!
Rachana
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समय के साथ
समय के साथ
Davina Amar Thakral
अब वो मुलाकात कहाँ
अब वो मुलाकात कहाँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ज़ख्म पर ज़ख्म अनगिनत दे गया
ज़ख्म पर ज़ख्म अनगिनत दे गया
Ramji Tiwari
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
आधारभूत निसर्ग
आधारभूत निसर्ग
Shyam Sundar Subramanian
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
VEDANTA PATEL
Loading...