Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

*यादें कब दिल से गईं, जग से जाते लोग (कुंडलिया)*

यादें कब दिल से गईं, जग से जाते लोग (कुंडलिया)
—————————————————-
यादें कब दिल से गईं , जग से जाते लोग
अब भी आते याद हैं ,जिनके शुभ संयोग
जिनके शुभ संयोग ,विगत के दिन महकाते
जिनके मीठे बोल ,गीत कानों में गाते
कहते रवि कविराय ,काश प्रभु दिन लौटा दें
हम हों उनके साथ ,शेष अब जिनकी यादें
————————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99 97 61 545 1

311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
■ सगी तो खुशियां भी नहीं।
■ सगी तो खुशियां भी नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
तू रुक ना पायेगा ।
तू रुक ना पायेगा ।
Buddha Prakash
यादों की परछाइयां
यादों की परछाइयां
Shekhar Chandra Mitra
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
*ओले (बाल कविता)*
*ओले (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुक्तक -*
मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बहुत उपयोगी जानकारी :-
बहुत उपयोगी जानकारी :-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
चलो आज खुद को आजमाते हैं
चलो आज खुद को आजमाते हैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...