Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

यह प्रकृति का चित्र अति उत्तम बना है

यह प्रकृति का चित्र अति उत्तम बना है
“मत कहो आकाश में कुहरा घना है” 

प्रतिदिवस ही सूर्य उगता और ढलता 
चार पल ही ज़िन्दगी की कल्पना है 

लक्ष्य पाया मैंने संघर्षों में जीकर 
मुश्किलों से लड़ते रहना कब मना है 

क्या हृदय से हीन हो, ऐ दुष्ट निष्ठुर 
रक्त से हथियार भी देखो सना है 

तुम रचो जग में नया इतिहास अपना 
हर पिता की पुत्र को शुभ कामना है

819 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
पानी की तस्वीर तो देखो
पानी की तस्वीर तो देखो
VINOD CHAUHAN
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
"जीवन की अंतिम यात्रा"
Pushpraj Anant
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
* मुस्कुराते नहीं *
* मुस्कुराते नहीं *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
थे कितने ख़ास मेरे,
थे कितने ख़ास मेरे,
Ashwini Jha
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
■ आप ही बताइए...
■ आप ही बताइए...
*Author प्रणय प्रभात*
आदतें
आदतें
Sanjay ' शून्य'
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
3239.*पूर्णिका*
3239.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
पिता
पिता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बच्चे
बच्चे
Kanchan Khanna
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
सोच और हम
सोच और हम
Neeraj Agarwal
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
Loading...