Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

यह धरती भी तो, हमारी एक माता है

यह धरती भी तो, हमारी एक माता है।
इंसान आखिर यह क्यों, भूल जाता है।।
यह धरती भी तो———————–।।

पैदा हुए हैं हम सभी, धरती की गोद में।
बचपन हमारा बीता है, धरती की गोद में।।
माँ की ममता भी इंसान, धरती से पाता है।
इंसान आखिर यह क्यों, भूल जाता है।।
यह धरती भी तो———————–।।

धरती के रूप अनेक, कितने सुंदर है।
कहीं पर्वत, कहीं मैदान, कहीं समुंदर है।।
भंडार खनिजों के इंसान, धरती से पाता है।
इंसान आखिर यह क्यों,भूल जाता है।।
यह धरती भी तो———————-।।

ये पेड़ पौधें भी तो, धरती पर पलते हैं।
जिन पर सभी जीव जंतु , निर्भर रहते हैं।।
जीवन में शरण इंसान, धरती से ही पाता है।
इंसान आखिर यह क्यों, भूल जाता है।।
यह धरती भी तो————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
412 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3366.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3366.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"" *गणतंत्र दिवस* "" ( *26 जनवरी* )
सुनीलानंद महंत
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
बुद्धं शरणं गच्छामि
बुद्धं शरणं गच्छामि
Dr.Priya Soni Khare
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
*पुस्तक*
*पुस्तक*
Dr. Priya Gupta
तन्हा था मैं
तन्हा था मैं
Swami Ganganiya
जब दिल ही उससे जा लगा..!
जब दिल ही उससे जा लगा..!
SPK Sachin Lodhi
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
"सम्मान व संस्कार व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी अस्तित्व में र
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार
■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार "अकेलापन।"
*प्रणय प्रभात*
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"किताबों में उतारो"
Dr. Kishan tandon kranti
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
नजरिया
नजरिया
नेताम आर सी
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
Loading...