Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

यह उस औरत की लाश है..

यह उस औरत की लाश है
यह उस औरत की लाश है…!

जिसने सबको जन्म दिया
गहरी पीड़ा में बहकर,
मंद हुई ना ममता जिसकी
अगिनत तकलीफ़े सहकर!
रक्षाबंधन पर बांधा
जिसने उम्मीद के धागे,
वही अभागन अबला पड़ गई
शैतान-दरिंदों के आगे!
झोंक दिया तेरे आगे ख़ुदको
छोड़ शर्म के गहने,
फिर क्यों लाखों बार चढ़े
सूली पर उसके सपने!
दौलत की ख़ातिर करता
तू जिसका उपहास है,
यह उस औरत की लाश है
यह उस औरत की लाश है…!!

Language: Hindi
1 Like · 264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मातृ दिवस पर विशेष
मातृ दिवस पर विशेष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विषम परिस्थियां
विषम परिस्थियां
Dr fauzia Naseem shad
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी यही चाहत है_
अपनी यही चाहत है_
Rajesh vyas
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
Dr MusafiR BaithA
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यारा ग़म नहीं
यारा ग़म नहीं
Surinder blackpen
2328.पूर्णिका
2328.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
"बारिश की बूंदें" (Raindrops)
Sidhartha Mishra
"फोटोग्राफी"
Dr. Kishan tandon kranti
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-164💐
💐प्रेम कौतुक-164💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
Ranjeet kumar patre
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...