Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 1 min read

यही तो जिंदगी का सच है

सबको पता है और यह सत्य है कि,
पहली आवश्यकता है आदमी की,
रोटी, कपड़ा और मकान,
और इन्हीं के लिए वह,
करता है दिनरात इतनी भागदौड़,
और बहाता है अपना खून- पसीना,
करता है पाप और अनैतिकता भी,
जीने को वह सुख- शान्ति से।।

भूल जाता है वह,
अपनी मंजिल तक पहुंचने में,
अपने परिचितों के चेहरे और नाम तक,
याद तक नहीं आते हैं उसको,
अपने गम और दर्द तक,
तोड़कर सभी से अपना रिश्ता वह,
जीना चाहता है अकेला होकर,
और जी.आज़ाद बनकर वह।।

नहीं रहता उसको कुछ भी मतलब,
अपने परिचितों और परिवार से,
और इसी तरह चला जाता है वह,
अंत में अपने सम्बन्ध सभी से तोड़कर,
बहुत दूर अपने किसी संसार में,
लेकिन वहाँ भी उसको नहीं होता है,
किसी से कोई मतलब,प्यार और रिश्ता,
यही तो जिंदगी का सच है।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
माता पिता के श्री चरणों में बारंबार प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
*मिक्सी से सिलबट्टा हारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
जो
जो "अपने" का नहीं हुआ,
*Author प्रणय प्रभात*
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
शव शरीर
शव शरीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...