Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

यही किस्सा हमारा उम्र भर का…

यही किस्सा हमारा उम्र भर का ….
*******************************
*
रहे हिस्सा कराते इस जिगर का,
यही किस्सा हमारा उम्र भर का ।
*
दरोदीवार से वाकिफ हुए तब,
पता हमको चला जब खंडहर का ।
*
खुमारी इश्क की अब जान लेगी,
पता हमको नहीं था इस असर का ।
*
तमन्ना है तुम्हें भेजूँ कभी खत,
पता मिल जायगा क्या आज घर का !
*
सुना है खूब कब्रें हैं अदब की,
तभी तो नाम है तेरे शहर का ।
*
बता देना उसे रस्ता न देखे,
नहीं करना हमें अब रुख उधर का !

*
जरा सी आँख लगने पर ज़ुलम क्यों,
जगा हूँ मैं समूचे रात-भर का !
*
हमें तहजीब देने चल पड़ा है,
निगोड़ा एक छोरा हाथ-भर का ।
*
हुए तो हैं कई रद्दोबदल पर,
मजा फिर भी वही तिरछी नजर का ।
*
मुहब्बत गर करो, बेखौफ होकर,
यही पैगाम मेरे हमसफर का ।
*
कहो न “हरीश” इससे बस करे अब,
दिवाना कौन है यह इस कदर का ?

*******************************
हरीश लोहुमी , लखनऊ
*******************************

196 Views
You may also like:
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
“TEASING IS NOT ACCEPTED AT ALL ON SOCIAL MEDIA”
DrLakshman Jha Parimal
# पैगाम - ए - दिवाली .....
Chinta netam " मन "
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
ये किस धर्म के लोग है
gurudeenverma198
मन का घाट
Rashmi Sanjay
चिलचिलती धूप
Nishant prakhar
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हम आपको नहीं
Dr fauzia Naseem shad
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
✍️अश्क़ का खारा पानी ✍️
'अशांत' शेखर
प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
✴️✴️प्रेम की राह पर-70✴️✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"लोग क्या कहेंगे?"
Pravesh Shinde
तुमको भी मिलने की चाहत थी
Ram Krishan Rastogi
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
*कौए काले (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
गज़ल
Saraswati Bajpai
■ आलेख / आभासी दुनिया और आप-हम
*प्रणय प्रभात*
भगतसिंह रिटर्न्स
Shekhar Chandra Mitra
युवाको मानसिकता (नेपाली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
बेवफाई
विशाल शुक्ल
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
शीर्षक :- आजकल के लोग
Nitish Nirala
सत्य सनातन पंथ चलें सब, आशाओं के दीप जलें।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...