Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

यहां कुछ भी स्थाई नहीं है

यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
निरंतर परिवर्तन ही प्रकृति का अटल सत्य हैं।

37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
"कलाकार"
Dr. Kishan tandon kranti
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*प्रणय प्रभात*
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
2329.पूर्णिका
2329.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
Anand Kumar
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्रोध
क्रोध
ओंकार मिश्र
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*तेरा साथ (13-7-1983)*
*तेरा साथ (13-7-1983)*
Ravi Prakash
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
विमला महरिया मौज
मौत का क्या भरोसा
मौत का क्या भरोसा
Ram Krishan Rastogi
" सौग़ात " - गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
Loading...