Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

यहाँ तो मात -पिता

यहाँ तो मात -पिता
तीन -तीन पुत्रों को पालते हैं
पर पुत्र अपने माँ -बाप
को बोझ सदा समझते हैं ! @ परिमल

336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
"Communication is everything. Always always tell people exac
पूर्वार्थ
3228.*पूर्णिका*
3228.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भक्तिकाल
भक्तिकाल
Sanjay ' शून्य'
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
Surinder blackpen
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
धूल
धूल
नन्दलाल सुथार "राही"
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
मत फेर मुँह
मत फेर मुँह
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
*Author प्रणय प्रभात*
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
जय लगन कुमार हैप्पी
बोझ
बोझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...