Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2023 · 1 min read

*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या

यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या लाभ …..?
और यदि चित्त एकाग्र ही है.?
तो कर्म करने की क्या आवश्यकता है..?
अतः बाहर और भीतर के कर्म करके या न करके जिस – किसी भी उपाय से भगवान शिव में चित्त लगाएं।
जिनका चित्त भगवान शिव में लगा हुआ है जिनकी बुद्धि सुस्थिर है, ऐसे सत्पुरुषों को इहलोक और परलोक में भी सर्वत्र परमानंद की प्राप्ति होती है।
ॐ नमः शिवाय
इस मंत्र जप करने से सभी सिद्धियां सुलभ होती है; अतः परावर विभूति ( उत्तम , मध्यम ऐश्वर्य) की प्राप्ति के लिए ॐ नमः शिवाय इस मंत्र का ज्ञान प्राप्त करना चाहिए।
ॐ नमः शिवाय
शिव महापुराण कथा
🙏🏼🌹

2 Likes · 290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-168💐
💐प्रेम कौतुक-168💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक सलाह, नेक सलाह
एक सलाह, नेक सलाह
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
Mukkadar bhi kya chij h,
Mukkadar bhi kya chij h,
Sakshi Tripathi
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
जिन्हें रोते-रोते
जिन्हें रोते-रोते
*Author प्रणय प्रभात*
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
दुनिया कैसी है मैं अच्छे से जानता हूं
Ranjeet kumar patre
जेठ का महीना
जेठ का महीना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
डरो नहीं, लड़ो
डरो नहीं, लड़ो
Shekhar Chandra Mitra
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
यहाँ पर सब की
यहाँ पर सब की
Dr fauzia Naseem shad
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
'अशांत' शेखर
आईना अब भी मुझसे
आईना अब भी मुझसे
Satish Srijan
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
परे नाम रूप आकारा, कण कण सृष्टि में विस्तारा
परे नाम रूप आकारा, कण कण सृष्टि में विस्तारा
Dr.Pratibha Prakash
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
जय माँ जगदंबे 🙏
जय माँ जगदंबे 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
Loading...