Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

यक्ष प्रश्न

साहित
✍️_यक्ष प्रश्न?कब आओगे?
हमेशा की तरह
इंतजार करती निगाहें
और मां का यक्ष प्रश्न
कब आ रहे हो …
मेरा भी हमेशा की तरह
एक ही जवाब,दिलासा
आ रहा हूं जल्दी, जल्दी ही आऊंगा…
पुराने घर का आंगन
आपके हाथ का खाना
आप और पिताजी के साथ समय बिताऊंगा…
तिथि, दिन, वार, महीने में
और धीरे धीरे महीने
सालों में तब्दील हो गए …
घर की दीवारें ही नहीं
बगीचे में रोपे बीज
पौधे भी, फलदार वृक्ष हो गए…
एक एक कर बिछुड़ते
दादी बाबा, बड़े बुजुर्ग
घर की शोभा बढ़ाते सामान हो गए…
गांव से शहर
फिर दूसरा राज्य और
अब सरहदों के पार,दूसरा देश …
समय ही नहीं
दूरी भी सीमाएं लांघ रही है
कमाने की चाहत है
या है, जरूरतें पूरी करने की जरूरत …
और मैं! जरूरतें,
चाहत, जिम्मेदारियों
के बीच खुद को ही, नहीं खोज पा रहा हूं…
__ मनु वाशिष्ठ

1 Like · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
2521.पूर्णिका
2521.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं नहीं मधु का उपासक
मैं नहीं मधु का उपासक
नवीन जोशी 'नवल'
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
हर दिल में प्यार है
हर दिल में प्यार है
Surinder blackpen
😊
😊
*प्रणय प्रभात*
बहते रस्ते पे कोई बात तो करे,
बहते रस्ते पे कोई बात तो करे,
पूर्वार्थ
स्वास्थ्य का महत्त्व
स्वास्थ्य का महत्त्व
Paras Nath Jha
“जिंदगी की राह ”
“जिंदगी की राह ”
Yogendra Chaturwedi
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
सच तो कुछ नहीं है
सच तो कुछ नहीं है
Neeraj Agarwal
Diploma in Urdu Language & Urdu course| Rekhtalearning
Diploma in Urdu Language & Urdu course| Rekhtalearning
Urdu Course
फूल
फूल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कितना गलत कितना सही
कितना गलत कितना सही
Dr. Kishan tandon kranti
*रिमझिम-रिमझिम बारिश यह, कितनी भोली-भाली है (हिंदी गजल)*
*रिमझिम-रिमझिम बारिश यह, कितनी भोली-भाली है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
विदाई गीत
विदाई गीत
Dr Archana Gupta
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
करुणा का भाव
करुणा का भाव
shekhar kharadi
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*मेरे साथ तुम हो*
*मेरे साथ तुम हो*
Shashi kala vyas
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
Loading...