Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 30, 2016 · 1 min read

मौत का नाम तो मुफ़्त ही बदनाम है

इस गमें जिंदगी मे और भी तो काम है
जिंदगी के साथ -2 मौत भी बेलगाम है
*****************************
छोड़ जाती है अक्सर जिंदगी ही हमे
मौत का नाम तो मुफ़्त ही बदनाम है
*****************************
कपिल कुमार
30/07/2016

211 Views
You may also like:
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Santoshi devi
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
Dr. Kishan Karigar
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम सब एक है।
Anamika Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...