Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

मौत का नाम तो मुफ़्त ही बदनाम है

इस गमें जिंदगी मे और भी तो काम है
जिंदगी के साथ -2 मौत भी बेलगाम है
*****************************
छोड़ जाती है अक्सर जिंदगी ही हमे
मौत का नाम तो मुफ़्त ही बदनाम है
*****************************
कपिल कुमार
30/07/2016

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
311 Views
You may also like:
आज का बालीवुड
Shekhar Chandra Mitra
RV Singh
Mohd Talib
बाती
Dr. Girish Chandra Agarwal
कब तक
Kaur Surinder
किस क़दर।
Taj Mohammad
✍️बेगैरत गुलामी✍️
'अशांत' शेखर
शिव और सावन
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ऋतु
Alok Saxena
"बाला किला अलवर"
Dr Meenu Poonia
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
जो रूठ गए तुमसे, तो क्या मना पाओगे, ज़ख्मों पर...
Manisha Manjari
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
*दहल जाती धरा है जब, प्रबल भूकंप आते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दर्द पन्नों पर उतारा है
Seema 'Tu hai na'
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
भोक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मिस्टर एम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़िंदगी ख़्वाब तो नहीं होती
Dr fauzia Naseem shad
बदल गया मेरा मासूम दिल
Anamika Singh
Book of the day: मैं और तुम (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
'पूर्णिमा' (सूर घनाक्षरी)
Godambari Negi
मशहूर हो जाऊं
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
हर बच्चा कलाकार होता है।
लक्ष्मी सिंह
सवैया /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे देश के युवाओं तुम
gurudeenverma198
आस का दीपक
Rekha Drolia
पत्थर दिखता है . (ग़ज़ल)
Mahendra Narayan
■ अभिमत.....
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...