Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।

मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
जैसी जिसकी सोच है वैसा उसका ढंग ॥
वैसा उसका ढंग चाल भी चलता वैसा ।
नही रहेगा हंस बनेगा बगुला जैसा ॥
ताकत जिसके हाथ मारता छक्का चौका।
कोई आपद साथ ढूँढ़ता अपना मौका ॥

– महेन्द्र नारायण

1 Like · 354 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
जीवन की अफरा तफरी
जीवन की अफरा तफरी
कवि आशीष सिंह"अभ्यंत
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
2452.पूर्णिका
2452.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हमारे दरमियान कुछ फासला है।
हमारे दरमियान कुछ फासला है।
Surinder blackpen
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
DrLakshman Jha Parimal
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
Dr. Rajeev Jain
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
सभी कहें उत्तरांचली,  महावीर है नाम
सभी कहें उत्तरांचली, महावीर है नाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
दोस्त
दोस्त
Pratibha Pandey
*महानगर (पाँच दोहे)*
*महानगर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
💐अज्ञात के प्रति-33💐
💐अज्ञात के प्रति-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
ये आरजू फिर से दिल में जागी है
ये आरजू फिर से दिल में जागी है
shabina. Naaz
Loading...