Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

मोहब्बत

***मोहब्बत ***
नफरत की इस दुनिया मे
मोहब्बत बैसे ही पनप जाती है
जैसे कुदरत हमेशा ही
फूलो को कांटो मे खिलाती है
कोशिशे लाख होती है
मोहब्बत को मिटाने की
मगर मोहब्बत हार कर भी जीत जाती है
***दिनेश कुमार गंगवार ***

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तितली
तितली
Manu Vashistha
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अर्पण है...
अर्पण है...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
gurudeenverma198
चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
ଅଦିନ ଝଡ
ଅଦିନ ଝଡ
Bidyadhar Mantry
मजबूरियां रात को देर तक जगाती है ,
मजबूरियां रात को देर तक जगाती है ,
Ranjeet kumar patre
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
मुस्कुराना जरूरी है
मुस्कुराना जरूरी है
Mamta Rani
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
Untold
Untold
Vedha Singh
एहसासे- नमी (कविता)
एहसासे- नमी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
Lokesh Sharma
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ये वादियां
ये वादियां
Surinder blackpen
मेरा वजूद क्या
मेरा वजूद क्या
भरत कुमार सोलंकी
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
Loading...