Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

मोहब्बत – अनकहें शब्दों की भाषा है !!!!!!

मोहब्बत – अनकहें शब्दों की भाषा है !!!!!!
मोहब्बत सुरों की सुमधुर झंकार है,
इसी से रचा सुन्दर संसार है ,
अनकहें शब्दों की मीठी परिभाषा है ,
मोहब्बत नज़रों की भाषा है।

पवित्र रिश्ता
दिल में तूफ़ान , चेहरे पर मुस्कान
जहर पी कर भी मुस्कराना ही तो
मोहब्बत करने वालो का हुनर है।
मोहब्बत आती नहीं सभी को रास ,
सिर्फ पा लेना ही नहीं
सबकुछ ख़ाक हो जाना भी
मोहब्बत को करता अमर है।

पुष्पों में सुगन्ध की तरह,
समीर में लीन हो जाना ,
दिए में बाती संग,
तेल का स्वाहा हो जाना ही तो है मोहब्बत।

दिलो से खेलने का शौंक न पालो मेरे युवा साथियों ,
मोहब्बत के सुकून में तूफानों का अनदेखा पैगाम भी है,
तूफानों की चोटों का नासूर बन जाना भी आम है,
यह एक गहरा समुन्दर है ,
समुन्दर में रत्नों का भंडार है,
समुन्दर में सैलाब का आना भी संभव है।
फिर भी पंछियों की तरह ऊंची उड़ान भर- भर कर ऊँचे-ऊँचें सपने देखना
हँसना , मुस्कराना ,इतराना, इठलाना, यही तो मोहब्बत करने वालों की पहचान है।

1 Comment · 745 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
अफसोस-कविता
अफसोस-कविता
Shyam Pandey
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
हम
हम
Ankit Kumar
■ विनम्र अपील...
■ विनम्र अपील...
*Author प्रणय प्रभात*
गुनो सार जीवन का...
गुनो सार जीवन का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
💐प्रेम कौतुक-282💐
💐प्रेम कौतुक-282💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रिश्ता
रिश्ता
Dr. Kishan tandon kranti
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
कुर्सी खाली कर
कुर्सी खाली कर
Shekhar Chandra Mitra
Tum ibadat ka mauka to do,
Tum ibadat ka mauka to do,
Sakshi Tripathi
कविता
कविता
Rambali Mishra
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/156.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Rap song 【4】 - पटना तुम घुमाया
Nishant prakhar
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
*शिवजी की चली बारात, हम बाराती हैं (भक्ति गीत)*
*शिवजी की चली बारात, हम बाराती हैं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
#एकताको_अंकगणित
#एकताको_अंकगणित
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
जिन्हें नशा था
जिन्हें नशा था
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी तेरा रूप निराला
नारी तेरा रूप निराला
Anil chobisa
Loading...