Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

मोल

चंदन सी खुशबू रहे,
चीनी सा हो घोल।
जून पड़े सब मानते,
पाहन का भी मोल।

Language: Hindi
63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये जिन्दगी तुम्हारी
ये जिन्दगी तुम्हारी
VINOD CHAUHAN
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
बीजः एक असीम संभावना...
बीजः एक असीम संभावना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
Er.Navaneet R Shandily
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
लोगों का मुहं बंद करवाने से अच्छा है
Yuvraj Singh
भगवान
भगवान
Anil chobisa
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*** तोड़ दिया घरोंदा तूने ,तुझे क्या मिला ***
*** तोड़ दिया घरोंदा तूने ,तुझे क्या मिला ***
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
रक्षाबंधन का त्योहार
रक्षाबंधन का त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कथनी और करनी
कथनी और करनी
Davina Amar Thakral
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
महाराष्ट्र का नया नाटक
महाराष्ट्र का नया नाटक
*प्रणय प्रभात*
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
Slok maurya "umang"
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
मेरी बेटी बड़ी हो गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इतना गुरुर न किया कर
इतना गुरुर न किया कर
Keshav kishor Kumar
सलीका शब्दों में नहीं
सलीका शब्दों में नहीं
उमेश बैरवा
प्यासी कली
प्यासी कली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
शेखर सिंह
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
"अनमोल"
Dr. Kishan tandon kranti
मां की महत्ता
मां की महत्ता
Mangilal 713
Loading...