Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

मोलभाव

मोलभाव

“मिट्टी के दीए कैसे दिए भैया ?” मिसेज शर्मा ने पूछा।
“बारह रुपए में एक दर्जन मैडम जी।” कुम्हार बोला।
“बारह रुपए ? दस लगाओ न, पाँच दर्जन ले लूँगी।” मिसेज शर्मा ने ऑफर दिया।
“उतना कम नहीं हो पाएगा मैडम जी।” कुम्हार ने कहा।
“क्या भैया, आप तो दो रुपए भी कम नहीं कर रहे हो।” मिसेज शर्मा बोलीं।
“मैडम इसी दो रुपए में मेरा परिवार पलता है।” कुम्हार ने अपनी विवशता बताई।
कुछ सोचकर मिसेज शर्मा बोलीं, “चलो ठीक है। ये रखो एक सौ बीस रुपए और पैक कर दो दस दर्जन।”
“ठीक है मैडम जी। ये लीजिए आपके दीए।” कुम्हार ने प्रसन्नतापूर्वक कहा।
“भैया मैंने दस दर्जन माँगे थे। आपने ग्यारह दर्जन दे दिया है।” मिसेज शर्मा बोलीं।
“मैडम जी, आपने मेरी बात रख ली। मेरा भी फर्ज बनता है कि मैं अपने ग्राहक के हितों का ध्यान रखूँ।” कुम्हार उत्साहित होकर बोला।
“थैंक्यू भैया। आज आपने मेरी आँखें खोल दी है। मोलभाव करना अच्छी बात है, पर हर जगह नहीं। मोलभाव करने वाले को पहले यह जरूर विचार करना चाहिये कि वह किस चीज के लिए और किससे कर रहा है।” मिसेज शर्मा बोलीं और आगे बढ़ गईं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#पर्व_का_सार
#पर्व_का_सार
*Author प्रणय प्रभात*
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
Phool gufran
निराकार वह कौन (कुंडलिया)
निराकार वह कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
// श्री राम मंत्र //
// श्री राम मंत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वफ़ा के बदले हमें वफ़ा न मिला
वफ़ा के बदले हमें वफ़ा न मिला
Keshav kishor Kumar
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
बताइए
बताइए
Dr. Kishan tandon kranti
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुआ पर लिखे अशआर
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
Arvind trivedi
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
मैं पतंग, तु डोर मेरे जीवन की
Swami Ganganiya
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
Gouri tiwari
महफ़िल से जाम से
महफ़िल से जाम से
Satish Srijan
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3101.*पूर्णिका*
3101.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
Loading...