Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 3 min read

मॉडर्न किसान

मॉडर्न किसान

“होरी भैया, मुझे लगता है कि इस बार भी हमें इंद्रदेव का प्रकोप झेलना पड़ेगा।” भोला ऊपर आसमान की ओर देखते हुए चिंतित स्वर में बोला।

“हां भोला भाई, आसार तो ऐसे ही लग रहे हैं। कभी-कभी आसमान में बादल के टुकड़े दिखाई दे जाते हैं, पर इधर बारिश होती नहीं। शायद आसपास के किसी क्षेत्र में होती हो।” होरी ने सहमति जताई।

“होरी भैय्या, हमें पंडित दातादीन महाराज की बात मान ही लेनी चाहिए। पंडित जी कल बोल रहे थे कि वे एक धार्मिक अनुष्ठान करके इंद्रदेव का प्रकोप शांत कर हमें संभावित अकाल से बचा सकते हैं।” भोला बोला।

“भोला भाई, सचमुच तुम बहुत ही भोले-भाले हो। क्या दातादीन के पाखंड से तुम अनभिज्ञ हो ? इस संभावित अकाल से खुद बचने और भावी पीढ़ी को बचाने का काम हम ही कर सकते हैं। कोई भी पूजा-पाठ या अनुष्ठान करके हम इससे नहीं बच सकते।” होरी ने समझाते हुए कहा।

“क्या… हम ही कर सकते हैं… ? आज आप कैसी बहकी-बहकी बातें कर रहे हो भैया ? आपकी तबियत तो ठीक है न, कि सुबह-सुबह चढ़ा लिए हो ?” भोला आश्चर्य से पूछा।

“भोला भाई, मेरी तबियत एकदम दुरुस्त है और तुम्हें तो अच्छे-से पता है कि मैं कभी शराब पीता नहीं हूं।” होरी ने नाराजगी भरे स्वर में कहा।

“माफ़ करना भैया। पर आपकी बातें मेरे सिर से ऊपर जा रही थीं, सो… भैया, आप बोल रहे थे कि इसका समाधान हम खुद ही कर सकते हैं, तो करते क्यों नहीं ? क्या उसके लिए हमें कोई मुहुर्त…?”

“देखो भोला, हम इक्कीसवीं सदी के मॉडर्न किसान हैं। अब हमें अपनी पुरानी और दकियानूसी सोच को बदलना होगा। तुम्हें याद होगा कि पिछले कुछ वर्षों से कई बार पंचायत और कृषि विभाग के अधिकारियों ने हमें समझाया कि पेड़ लगाओ, पर्यावरण संरक्षण करो। पर हमने हर बार उनकी बातों को अनसूनी की। नतीजा सामने है।” भोला की बात बीच में ही काटते हुए होरी बोला।

“हां भैया, आप एकदम सही बोल रहे हो। उन्होंने तो यह भी कहा था कि सरकार हमें अनेक प्रकार के फलदार और औषधीय पौधे लगाने के लिए फ्री में भी देगी।” भोला ने कहा।

“वही तो।‌ भोला भाई, अभी भी ज्यादा देर नहीं हुई है। जब जागे, तभी सबेरा। हम लोग आज ही पंचायत में विचार करते हैं और गांव के सब लोगों को वृक्षारोपण और उसके संरक्षण-संवर्धन करने के लिए काम शुरू करते हैं।” होरी ने सुझाया।

“बिल्कुल भैया। आप हमारे गांव के सबसे समझदार किसान ही नहीं, बल्कि सरपंच भी हैं। सब लोग आपका बहुत सम्मान भी करते हैं। इसीलिए मुझे पूरा विश्वास है कि आपकी इस बात को सभी मानेंगे भी। वैसे भी यह मामला हमसे ही नहीं, बल्कि हमारी आने वाली पीढ़ी से भी जुड़ा हुआ है।” भोला बोला।

“तो ठीक है भोला भाई। शाम को मिलते हैं चौपाल में। मैं कोटवार को मुनादी करने के लिए बोल देता हूं कि गांव के सभी लोग शाम को पंचायत भवन में इकट्ठे हों।” होरी ने कहा।

कुछ ही देर बाद गांव में कोटवार की गूंजने लगी, “सुनो, सुनो, सुनो… आज शाम को सब लोग…।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"मौत से क्या डरना "
Yogendra Chaturwedi
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*अभी भी शादियों में खर्च, सबकी प्राथमिकता है (मुक्तक)*
*अभी भी शादियों में खर्च, सबकी प्राथमिकता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
मईया रानी
मईया रानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* गीत मनभावन सुनाकर *
* गीत मनभावन सुनाकर *
surenderpal vaidya
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2268.
2268.
Dr.Khedu Bharti
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
मुझसे मिलने में तुम्हें,
मुझसे मिलने में तुम्हें,
Dr. Man Mohan Krishna
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
पीड़ा थकान से ज्यादा अपमान दिया करता है ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...