Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 2 min read

मै स्त्री कभी हारी नही

मैं स्त्री कभी हारी नहीं,
पर वक्त के साथ कितनी बार,
हारी हूँ, गिरी हूँ…………..,
फिर उठी हूँ ……………….।
वक्त हर बार कुछ खुशियाँ दे,
दगाबाजी दिखा देता है…..
मैं अपने हिस्से की खुशी पाने,
सौ बार मरती हूँ……………,
फिर जीकर उठती हूँ ।
क्यों वक्त मेरा इम्तिहान ले ,
मुझे अपनी कसौटी पर,
खरा उतारने के लिए …..
कितना मशक्कत करता है ।
मैं स्त्री खुद से कभी नहीं रूठी, भू
पर लोगों की बातों से रूठ जाती हूँ,
क्यों लोग बेमतलब की,
बातों से मुझे हर पल बिखराता है ।
मैं स्त्री भूल गई खुद को,
अपने पराये रिश्ते की किताब के ,
कुछ कोरे कागज़ पर ……………,
अपनेपन का रंग भरते हुए …..,
अपना वजूद खो मुस्कराती हूँ ।
गज़ब की धीरता है मुझमें,
लोग खेलते हैं मेरे दिल से…….,
प्यार के बोल दो शब्द मेरी……
भावनाओ का मजाक उड़ा…..,
मुझे एक पल में झटक देते है ।
मैं फिर भी करती हूँ इंतजार,
कभी प्यार के दो शब्द बोलने वाले का,
मुझे जिसने हर लम्हा रूलाया,
उस शख्स का जो मुझे,
खिलौनासमझ खेलता रहा।
कितनी अजीब है दुनियाँ,
अपना काम है तो वक्त है ,
पर जब स्त्री चाहती है,
कुछ वक़्त गुजारना उनके साथ,
मेरे पास वक्त नहीं है कह ,
हर बार स्त्री को ………….,
ऑसूओ में भीगा तन्हा कर देता है ।
दिल कहता है पागल है तू,
तेरे पास जो शब्द है ना …..,
…..विश्वास का……………..,
उसे अपनी जिंदगी से निकाल,
दरिया में फैंक कर आ जा।
तू स्त्री है ना सब पर………
विश्वास कर लेती हो…….,
जब संवेदनाएँ सहमने लगती है,
अकेले में कितना रो देती हो।
हाँ मैं स्त्री हूँ नादान हूँ………,
हो जाता है यह गुनाह……..,
क्योंकि मैं सरलमना हूँ,…..
करती हूँ कर बद्ध निवेदन,
हमारी भावनाओं के साथ,
खिलवाड़ कर हमे न करें आहत।।

डॉ राजमती पोखरना सुराना भीलवाड़ा राजस्थान

2 Likes · 2 Comments · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचा ले मुझे🙏🙏
बचा ले मुझे🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
आप जब हमको दिखते हैं
आप जब हमको दिखते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अवसर
अवसर
Neeraj Agarwal
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Lines of day
Lines of day
Sampada
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
माँ
माँ
Sidhartha Mishra
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
Er. Sanjay Shrivastava
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
■ अधकचरों की भीड़ के बीच उपजता है अर्द्धसत्य।
■ अधकचरों की भीड़ के बीच उपजता है अर्द्धसत्य।
*Author प्रणय प्रभात*
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
Neelam Sharma
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...