Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

मै थक गया हु

” मैं थक गया

खामोश मैं अपने पर आकर
अपने पन से थक गया
खोखला पन मैं खुद पर रखकर
अपने हुनर से थक गया ॥

हाळात पर मेरा वश
चाहकर भी नही चलता है
मायूष में आज यू होकर
अपनी नाकारी से थक गया ॥

रख में हिम्मत अपने मन में
कुछ पाने की सोच रहा हूँ,
तन्हाई की तलाई मे डूब अपने मन से कह
रहा हु मै थक गया हूं ।।

औरो की चौखट पर बन भिखारी
चालाकी से घूम रहा
चालाकी की सौबत पर
रख उधारी जुम रहा
कपट भाव निकला मुंह से अब तो मैं थक गया हूँ ।।

राहो पर बिन, चालाकी, पांव धरू मैं अपने कैसे ।
आहिस्ता आहिस्ता चल: मैं लम्बी सड़क पर थक गया हूँ

Language: Hindi
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
हमें प्यार और घृणा, दोनों ही असरदार तरीके से करना आना चाहिए!
Dr MusafiR BaithA
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
मित्रता का बीज
मित्रता का बीज
लक्ष्मी सिंह
योगा मैट
योगा मैट
पारुल अरोड़ा
अल्फाज़.......दिल के
अल्फाज़.......दिल के
Neeraj Agarwal
आस्मां से ज़मीं तक मुहब्बत रहे
आस्मां से ज़मीं तक मुहब्बत रहे
Monika Arora
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
सम्भव नहीं ...
सम्भव नहीं ...
SURYA PRAKASH SHARMA
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संवेदनहीनता
संवेदनहीनता
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
gurudeenverma198
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
एहसासे- नमी (कविता)
एहसासे- नमी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
जिन्दगी ....
जिन्दगी ....
sushil sarna
Loading...