Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2023 · 1 min read

मैथिली हाइकु कविता (Maithili Haiku Kavita)

प्रकाश (Light)
#daily_writing_challenge

उदित सूर्य
प्रकाशमय पृथ्वी
जीवन रेखा ।

#मैथिली_हाइकु_कविता

विनीत ठाकुर
मिथिला बिहारी नगरपालिका
मिथिलेश्वर मौवाही – ३
धनुषा, नेपाल

Language: Maithili
3 Likes · 1 Comment · 431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीत वो सकते हैं कैसे
जीत वो सकते हैं कैसे
Dr fauzia Naseem shad
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
होठों को रख कर मौन
होठों को रख कर मौन
हिमांशु Kulshrestha
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
बीजारोपण
बीजारोपण
आर एस आघात
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
नारी
नारी
Prakash Chandra
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
Bhargav Jha
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
2943.*पूर्णिका*
2943.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
धर्म-कर्म (भजन)
धर्म-कर्म (भजन)
Sandeep Pande
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
"रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
गुम है
गुम है
Punam Pande
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
Loading...