Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2023 · 1 min read

मैं हिन्दी हिंदुस्तान की

मैं हिन्दी हिंदुस्तान की, तुम मेरा भी सम्मान करो।
मैं हर दिल की आवाज हूँ , कुछ मेरा भी ख्याल करो।।
मैं हिन्दी हिंदुस्तान की——————।।

मैं भी जन्मी हूँ भारत में, मैं भी तो भारतवासी हूँ।
नहीं मुझको पराया तुम बोलो, मैं यहाँ की मूलनिवासी हूँ।।
इस माटी की पहचान हूँ मैं, तुम मेरा भी गुणगान करो।
मैं हर दिल की आवाज हूँ ,कुछ मेरा भी ख्याल करो।।
मैं हिन्दी हिंदुस्तान की——————-।।

भारत को एकता के सूत्र में, मैं ही तो बांधती हूँ।
इंसान को बिना भेदभाव, अपना प्यार लुटाती हूँ।।
मैं मातृभाषा हूँ भारत की, तुम मुझको भी प्यार करो।
मैं हर दिल की आवाज हूँ , कुछ मेरा भी ख्याल करो।।
मैं हिन्दी हिंदुस्तान की——————।।

मैं ताज हूँ हिंदुस्तान का, मैं शान हिंदुस्तान की।
मैं विश्वगुरु के रूप में, पहचान हूँ हिंदुस्तान की।।
मैं गौरव हूँ इस भारत का, मुझ पर भी अभिमान करो।
मैं हर दिल की आवाज हूँ , कुछ मेरा भी ख्याल करो।।
मैं हिन्दी हिंदुस्तान की——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
गीत
गीत
Pankaj Bindas
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
अनिल कुमार
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
3161.*पूर्णिका*
3161.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
"समय के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
डॉ. दीपक मेवाती
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
ruby kumari
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
निकल गया सो निकल गया
निकल गया सो निकल गया
TARAN VERMA
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
खग  (कुंडलिया)*
खग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
आप जरा सा समझिए साहब
आप जरा सा समझिए साहब
शेखर सिंह
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
पूर्वार्थ
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
💐प्रेम कौतुक-432💐
💐प्रेम कौतुक-432💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
Loading...