Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे

मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे देश और स्थान की पहचान है वैसे तो मैं अंग्रेजी,फ्रेंच और जर्मन भी बोल सकता हूं लेकिन इससे लोगो के अंदर भ्रम बना रहेगा कि मैं किस देश का मूलनिवासी हूं।
RJ Anand Prajapati

56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
#एकताको_अंकगणित
#एकताको_अंकगणित
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-50💐
💐अज्ञात के प्रति-50💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
क्या खूब दिन थे
क्या खूब दिन थे
Pratibha Pandey
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
"ऐसा क्यों होता है?"
Dr. Kishan tandon kranti
बात
बात
Ajay Mishra
मत पूछो मुझ पर  क्या , क्या  गुजर रही
मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही
श्याम सिंह बिष्ट
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Sakshi Tripathi
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
DrLakshman Jha Parimal
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
Manisha Manjari
जाने वाले का शुक्रिया, आने वाले को सलाम।
जाने वाले का शुक्रिया, आने वाले को सलाम।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
वक्त के दामन से दो पल चुरा के दिखा
वक्त के दामन से दो पल चुरा के दिखा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
2225.
2225.
Dr.Khedu Bharti
Loading...