Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

मैं सत्य सनातन का साक्षी

मैं सत्य सनातन का साक्षी

मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं पंचतत्व दिग्दर्शक हूॅ।
हूॅ अनल,हुताशन सृष्टि में
मैं दिग्दिगंत आकर्षक हूॅ।।
मैं सत्य सनातन……….१
उज्वल भावों का आकांक्षी
गंगा धारा समदर्शक हूॅ।
निर्विकार बन जन जन में
मैं सागर सा उत्कर्षक हूॅ।।
मैं सत्य सनातन…………..२
सद् पाञ्चजन्य हूॅ शुभाकांक्षी
हुंकार सत्य का सर्जक हूॅ।
करता मिथ्या भंग सदा
साधना, सत्य दिग्दर्शक हूॅ।।
मैं सत्य सनातन…………..३
मैं सत्य अहिंसा का वांछी
कण -कण हित अभिलाषक हूॅ ।
अश्वत्थ वृक्ष त्रैलोक्य विराजित
हित साधन का परिभाषक हूॅ।।
मैं सत्य सनातन…………..४
•© मोहन पाण्डेय ‘भ्रमर ‘
हाटा कुशीनगर उत्तर प्रदेश
२मार्च २०२४

3 Likes · 117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
I haven’t always been a good person.
I haven’t always been a good person.
पूर्वार्थ
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
Feeling of a Female
Feeling of a Female
Rachana
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ दोहात्मक मंगलकामनाएं।
■ दोहात्मक मंगलकामनाएं।
*प्रणय प्रभात*
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
"क्या-क्या करते"
Dr. Kishan tandon kranti
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
चलना था साथ
चलना था साथ
Dr fauzia Naseem shad
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
शंगोल
शंगोल
Bodhisatva kastooriya
Loading...