Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Sep 2023 · 2 min read

*मैं वर्तमान की नारी हूं।*

मैं वर्तमान की नारी हूं।
मैं जन्म से पहले भी सताई, जन्म लिया इस जग में आई।
सिलवटें देखीं माथे पर, सुने ताने फिर भी हर्षाई।
शोषण अत्याचार कष्ट भी झेला, भेदभाव का मिला झमेला।
खिलाफ खड़ी हर जुल्म के आगे, मैं परिवर्तनकारी हूं।
मैं वर्तमान की नारी हूं, मैं कई-कई पर भारी हूं।।१।।
धरा से लेकर अम्बर तक, छोड़ी नहीं कोई कसर।
नासा इसरो में योगदान, पहुंचाया चांद पर चंद्रयान।
मैं पायलट बन यान उड़ाऊं, मैं एवरेस्ट पर तिरंगा फहराऊं।
मैं जूड़े कराटे रेल खेल में, रण कौशल में चिंगारी हूं।
मैं वर्तमान की नारी हूं, मैं कई-कई पर भारी हूं।।२।।
मैं राजनीति जासूसी में, मैं आगे कानाफूसी में।
अनोखा मेरा है बलिदान, हर क्षेत्र में है योगदान।
मैं अब नहीं हाथ की कठपुतली, फिर भी अपनों पर बलिहारी हूं।
मां बहन कहीं ममता बनकर, हर घर की जिम्मेदारी हूं।
मैं वर्तमान की नारी हूं, मैं कई-कई पर भारी हूं।।३।।
मैं पन्ना धाय हांडी रानी, मैं गार्गी अपाला नांगोली।
मैं विश्वआरा घोषा सिकता, मैं सावित्री मैं भीमाबाई।
मैं मायावती इन्दिरा सोनिया, मैं अहिल्या रमा जीजाबाई।
मैं फूलन देवी इस युग की, अकेली अन्याय पर भारी हूं।
मैं वर्तमान की नारी हूं, मैं कई-कई पर भारी हूं।।४।।
मैं हजरत महल उषा मेहता, मैं अरुणिमा टेरेसा झलकारी।
मैं एलिजाबेथ कमला हैरिस, मैं कस्तूरबा लक्ष्मीबाई।
मैं द्रौपदी मुर्मू अनुप्रिया, मैं हिमादास मैं सुप्रिया।
मैं एंजेला मार्केल सरोजिनी नायडू, मैं मैरीकॉम चंदा कोचर।
मैं सीता मंदोदरी पांचाली, हर युग में पालनहारी हूं।
मैं वर्तमान की नारी हूं, मैं कई-कई पर भारी हूं।।५।।
मैं साइना नेहवाल सानिया मिर्जा, मैं मीरा कुमार रानी दुर्गा।
मैं दिव्या भारती भीकाजी कामा, मैं काजोल मिशेल ओबामा।
मैं एनी बेसेंट बछेंद्री पाल, मैं किरण बेदी टीना डाबी।
मैं निर्मला रीता सुषमा स्वराज, मैं लता की प्रिय किलकारी हूं।
मैं वर्तमान की नारी हूं, मैं कई-कई पर भारी हूं।।६।।
सौंदर्य उद्योग फिल्म जगत, ना क्षेत्र कोई अछूता है।
बिन मेरे तुम ध्यान रखो, हर एक किरदार झूठा है।
मैं संगिनी साथी मित्र भी, मैं आधे की हकदार हूं।
दुष्यन्त कुमार की कलम से नारी, सबला है, भविष्य की तैयारी है।
यह वर्तमान की नारी है, यह अकेले सब पर भारी है।।७।।

5 Likes · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
प्रणय 10
प्रणय 10
Ankita Patel
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ Rãthí
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
Taj Mohammad
गृहस्थ के राम
गृहस्थ के राम
Sanjay ' शून्य'
*अभी भी शादियों में खर्च, सबकी प्राथमिकता है (मुक्तक)*
*अभी भी शादियों में खर्च, सबकी प्राथमिकता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Shyam Sundar Subramanian
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
मुझको मेरा हिसाब देना है
मुझको मेरा हिसाब देना है
Dr fauzia Naseem shad
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
शेखर सिंह
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
किराये की कोख
किराये की कोख
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
कवि दीपक बवेजा
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-443💐
💐प्रेम कौतुक-443💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
3300.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3300.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
तुझे नेकियों के मुँह से
तुझे नेकियों के मुँह से
Shweta Soni
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
Loading...