Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

मैं लिखती नहीं

मैं लिखती नहीं बस लिखा जाता है,
मैं शब्दों को चुनती नहीं शब्द मुझे चुन लेते हैं।

स्मृतियों के घने जंगल में से जब गुज़रती हूँ,
बेतरतीब फैली लताएँ मुझे जकड़ लेती हैं।

होता है जब सामना अप्रत्याशित घटनाओं का,
काली घटा बन अनायास आँखें बरस जाती हैं।

तथा कथित समाज है विद्रूपताओं का ताना बाना,
दिमाग़ पर हावी होते अच्छे बुरे घटक चुन लेती हूँ।

बना संबल अपनों का दिया आदेशात्मक प्यार,
मंद मंद मन में ही मुस्कुरा कर सृजन कर लेती हूँ।

अनघड़ रिश्तों की इबारत लिखने की कोशिश में,
भावनाओं में जमा घटाकर जोड़ तोड़ कर ही लेती हूँ।

1 Like · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*नल (बाल कविता)*
*नल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"वक्त"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता
कविता
Shiva Awasthi
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम आ जाओ एक बार.....
तुम आ जाओ एक बार.....
पूर्वार्थ
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
Sarfaraz Ahmed Aasee
मन की संवेदना
मन की संवेदना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
ना प्रेम मिल सका ना दोस्ती मुकम्मल हुई...
Keshav kishor Kumar
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
एक भ्रम जाल है
एक भ्रम जाल है
Atul "Krishn"
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ख़्वाब सजाना नहीं है।
ख़्वाब सजाना नहीं है।
अनिल "आदर्श"
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
2794. *पूर्णिका*
2794. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Enchanting Bond
Enchanting Bond
Vedha Singh
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
#अपनाएं_ये_हथकंडे...
*प्रणय प्रभात*
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
Loading...