Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

“मैं मजाक हूँ “

“मैं मजाक हूँ ”

हालात की चक्की में पीसकर
बेरुखी से रूककर
आज मैं अपनी ही नजर में मजाक हूँ

जिन्दगी का एक लम्हा
आज किताबो संग बीता कर
खामोशी से अपनी असफलता को देख
कह रहा हां मैं मजाक हूँ

नालायकी को देख मेरे अपने
मेरे तर्जुबो को सुखा सपना
आज मुझे बताकर अपनो की नज़र मे
मजाक बना गये

सही समय की प्रतीक्षा में
सहन शीलता का स्वाद चखकर
कड़ी मेहनत की सफलता से
ताना खोर खुद मजाक बन गये

गर्व से सिर मेरा ऊँचा था
अपने मा बाप संग भाईयो का सपना मेरा जचा था
. कह सकता हूँ
मैं हंसी उड़ाने वालो को अपने कराबियों की खुशी को
केद करने वाली वो सलाक मै एक मजाक हूं

Language: Hindi
31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
"भावनाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कराहटों के पीछे
मुस्कराहटों के पीछे
Surinder blackpen
2601.पूर्णिका
2601.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भूमि दिवस
भूमि दिवस
SATPAL CHAUHAN
शहीद की अंतिम यात्रा
शहीद की अंतिम यात्रा
Nishant Kumar Mishra
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
कृष्णकांत गुर्जर
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
48...Ramal musamman saalim ::
48...Ramal musamman saalim ::
sushil yadav
जन्मदिन शुभकामना
जन्मदिन शुभकामना
नवीन जोशी 'नवल'
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खुशी तो आज भी गांव के पुराने घरों में ही मिलती है 🏡
खुशी तो आज भी गांव के पुराने घरों में ही मिलती है 🏡
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
चित्र कितना भी ख़ूबसूरत क्यों ना हो खुशबू तो किरदार में है।।
Lokesh Sharma
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
DR arun कुमार shastri
DR arun कुमार shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
gurudeenverma198
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
*प्रणय प्रभात*
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
Rj Anand Prajapati
पनघट
पनघट
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
वृक्षों की भरमार करो
वृक्षों की भरमार करो
Ritu Asooja
" ये धरती है अपनी...
VEDANTA PATEL
Loading...