Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

मैं भी डरती हूॅं

हां ! सच कहती हूॅं
सच में मैं भी डरती हूॅं ,

मेरे स्वभाव पर मत जाना
मेरे रूआब पर मत जाना ,

सबके पास नहीं आती हूॅं
सबके पास नहीं जाती हूॅं ,

क्योंकि मुझे भी डर लगता है
ये ‘ मेरा मैं ‘ मुझसे कहता है ,

अपनों के झूठ से डरती हूॅं
अपनों के फरेब से डरती हूॅं ,

उनके अज़ीज़ बनने से डरती हूॅं
उनके अजनबी बनने से डरती हूॅं ,

उनके प्यार से डरती हूॅं
उनके तकरार से डरती हूॅं ,

उनके मेकअप से डरती हूॅं
उनके आवरण से डरती हूॅं ,

उनके ज्यादा मीठे से डरती हूॅं
उनके ज्यादा तीखे से डरती हूॅं ,

सच्चे अपनों का सामना कर सकती हूॅं
लेकिन अपनों के छिपे वार से डरती हूॅं ,

इतनी तेज़ और बहादुर मैं
अपनों की हर चाल से डरती हूॅं ,

हां ! सच कहती हूॅं
सच में मैं भी डरती हूॅं ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
"जवाब"
Dr. Kishan tandon kranti
પૃથ્વી
પૃથ્વી
Otteri Selvakumar
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
सीख लिया है सभी ने अब
सीख लिया है सभी ने अब
gurudeenverma198
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
सीख
सीख
Ashwani Kumar Jaiswal
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
2383.पूर्णिका
2383.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
मुझे आरज़ू नहीं मशहूर होने की
Indu Singh
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
💐प्रेम कौतुक-553💐
💐प्रेम कौतुक-553💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
Rituraj shivem verma
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
आजकल / (नवगीत)
आजकल / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये
ये "इंडियन प्रीमियर लीग" है
*Author प्रणय प्रभात*
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
"The Deity in Red"
Manisha Manjari
गांधी जी के नाम पर
गांधी जी के नाम पर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...