Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2024 · 1 min read

मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे

मैं भी रखूं क्यों मतलब उनसे।
उनको नहीं जब मतलब मुझसे।।
कभी हाल मेरा नहीं पूछते वो।
क्यों हाल जानूँ अब मैं भी उनसे।।
मैं भी रखूं क्यों मतलब —————–।।

फुरसत कभी उनको मिलती तो होगी।
करते नहीं क्यों वो याद मुझको।।
शायद उनके दिल में कोई शक है।
इसीलिए वो नहीं मिलते मुझको।।
हो गया मैं भी अब उनके जैसा।
रखता हूँ दूरी अब मैं भी उनसे।।
मैं भी रखूं क्यों मतलब —————–।।

अपना अगर वो मुझको समझते।
चलता नहीं मैं उनसे अलग राह।।
रखते लगाकर अगर मुझको दिल से।
नहीं छोड़ता मैं कभी उनकी बाँह।।
बचते हैं मुझसे वो मिलने से अब।
चाहता नहीं बात करना मैं उनसे।।
मैं भी रखूं क्यों मतलब ——————।।

बताते नहीं क्यों गुनाह मेरा क्या है।
क्यों डरते हैं वो सच से इतना।।
या तो कमी कुछ होगी उनमें।
नहीं तो बताते वो मुझको अपना।।
नाराज जब वो रहते हैं मुझसे।
नहीं मांगूगा मैं मदद कभी उनसे।।
मैं भी रखूं क्यों मतलब —————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माता शबरी
माता शबरी
SHAILESH MOHAN
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
#आदरांजलि
#आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
लोग समझते हैं
लोग समझते हैं
VINOD CHAUHAN
ऐंचकताने    ऐंचकताने
ऐंचकताने ऐंचकताने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
Jogendar singh
किसान
किसान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दर्द उसे होता है
दर्द उसे होता है
Harminder Kaur
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
“शादी के बाद- मिथिला दर्शन” ( संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
"ख्वाबों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
3313.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3313.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
कल पापा की परी को उड़ाने के लिए छत से धक्का दिया..!🫣💃
SPK Sachin Lodhi
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
राशिफल
राशिफल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...