Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 11, 2022 · 1 min read

मैं बेटी हूँ।

मैं बेटी हूँ!
मुझ पर करो नही
आप सब अत्याचार ।
नही मारो मुझे कोख में ,
मुझको भी दो जीने का अधिकार।

मुझे भी प्यार का हक दो,
मुझको भी दो पढने का अधिकार।
मुझे भी आगे बढने दो,
मेरे लिए भी खोल दो संसार।

माना बेटे ले जाते हैं
आपको स्वर्ग के द्वार।
पर मै बेटी आपके
प्यार की खातिर ,
धरती पर ही ले आऊंगी
स्वर्ग को उतार ।

मै बेटी!
सुख शान्ति,लक्ष्मी से ,
आपका घर भर देती।
मिल जाता मुझको जो
आप सब से थोड़ा सा प्यार।

मुझे आपके धन-दौलत की
कोई भी जरूरत नहीं है
आप सबकी प्यार भरी
एक नजर ही काफी है।

देखना हो कभी आजमा कर
तो मेरी परीक्षा ले लेना ।
आपके थोड़े प्यार के बदले में,
दे दूंगी हँसते-हँसते जान।

आप सब क्यों भूल जाते हैं,
कौन यह संसार चलाती है ?
कौन आप को इस दुनिया में,
अपने कोख से लाती है ?

फिर भी क्यों मुझे ,
कोख में मार दिया जाता है,
और अगर जन्म लेकर इस
दुनिया में आ भी गई तो
माँ-बाप के प्यार के लिए ,
क्यों तरसना पड़ता है?

~अनामिका

3 Likes · 69 Views
You may also like:
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H. Amin
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
"अशांत" शेखर
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
प्रेम...
Sapna K S
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
प्रयास
Dr.sima
रामपुर में दंत चिकित्सा की आधी सदी के पर्याय डॉ....
Ravi Prakash
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फ़ासला
मनोज कर्ण
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
Loading...