Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2022 · 1 min read

मैं बेटी हूँ।

मैं बेटी हूँ!
मुझ पर करो नही
आप सब अत्याचार ।
नही मारो मुझे कोख में ,
मुझको भी दो जीने का अधिकार।

मुझे भी प्यार का हक दो,
मुझको भी दो पढने का अधिकार।
मुझे भी आगे बढने दो,
मेरे लिए भी खोल दो संसार।

माना बेटे ले जाते हैं
आपको स्वर्ग के द्वार।
पर मै बेटी आपके
प्यार की खातिर ,
धरती पर ही ले आऊंगी
स्वर्ग को उतार ।

मै बेटी!
सुख शान्ति,लक्ष्मी से ,
आपका घर भर देती।
मिल जाता मुझको जो
आप सब से थोड़ा सा प्यार।

मुझे आपके धन-दौलत की
कोई भी जरूरत नहीं है
आप सबकी प्यार भरी
एक नजर ही काफी है।

देखना हो कभी आजमा कर
तो मेरी परीक्षा ले लेना ।
आपके थोड़े प्यार के बदले में,
दे दूंगी हँसते-हँसते जान।

आप सब क्यों भूल जाते हैं,
कौन यह संसार चलाती है ?
कौन आप को इस दुनिया में,
अपने कोख से लाती है ?

फिर भी क्यों मुझे ,
कोख में मार दिया जाता है,
और अगर जन्म लेकर इस
दुनिया में आ भी गई तो
माँ-बाप के प्यार के लिए ,
क्यों तरसना पड़ता है?

~अनामिका

Language: Hindi
3 Likes · 742 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
Rajkumar Bhatt
दाता
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
💐प्रेम कौतुक-423💐
💐प्रेम कौतुक-423💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मातृ दिवस पर विशेष
मातृ दिवस पर विशेष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
घर
घर
Saraswati Bajpai
दिल  है  के  खो  गया  है   उदासियों  के  मौसम  में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*
Ravi Prakash
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"तवा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे जिंदगी के मालिक
मेरे जिंदगी के मालिक
Basant Bhagawan Roy
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बेइंतहा इश्क़
बेइंतहा इश्क़
Shekhar Chandra Mitra
■ उल्टा सवाल ■
■ उल्टा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
-- बेशर्मी बढ़ी --
-- बेशर्मी बढ़ी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
विक्रम कुमार
Loading...