Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी

मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
आप दया निधि अंतर्यामी
मैं हूं प्रभु जीवन से हारा
मुझको दे दो आप सहारा
रिश्ते नातों का मर्म न जाना
पाप पुण्य को न पहचाना
मैं हूं प्रभु जी नीच सुभाऊ
पद कमलों में शीश झुकाऊं
वेदों की गाथा पुराणों की वाणी
गुरुवर महिमा सबने बखानी
जग में नही अब अपना कोई
बिनु हरि कृपा विवेक न होई
कर्म जगत में चोखे करले
राम नाम सुमिरन मन करले
पापी तन भवसागर तर ले
“कृष्णा” खाली झोली भरले

58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
There are few moments,
There are few moments,
Sakshi Tripathi
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
Karuna Goswami
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
बुला लो
बुला लो
Dr.Pratibha Prakash
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
*बरगद (बाल कविता)*
*बरगद (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
भगवान
भगवान
Anil chobisa
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
Er.Navaneet R Shandily
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
रास्ता तुमने दिखाया...
रास्ता तुमने दिखाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
Loading...