Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी

मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
तुम से, सबसे और खुद से…….
मैं पलटकर देखती हूँ जब कोई मेरा अपना छूटता है
क्योंकि मैं उसे अपना समझती हूँ ,उसके साथ किसी न किसी तरह जुड़ी होती हूँ,
लेकिन जब मुझे कोई छोड़ता है, मैं तब भी पलटकर देखती हूँ
हालांकि मुझे देखना नहीं चाहिए ,पर मैं देखती हूँ वो मुझसे क्यों जुड़े थे और अब क्यो छोड़ रहे हैं।।
पर इस छूटने और छोड़ने के क्रम में मैं उनदोनो के लिए मैं एक जैसी ही हूँ,
मैं दोनो को पलटकर कई बार देखती हूँ पर दोनो के लिए ही नहीं रुकती न ,न उनके रुकने की कामना करती हूं,क्योंकि मुझे पता है दोनो मेरे लिए अब नही हैं न हो सकते हैं ,इस सच्चाई को स्वीकार करके मैं आगे बढ़ जाती हूँ, हर बार जैसे नदियां बढ़ जाती है अपने आँसू अपने भीतर समाकर ,वो आँसू जिसे वो क़भी भी अपने जल में से सम्मलित नही करती,अपनी मिठास को आँसू की वजह से खारा नहीं होने देती हैं,बस चलती हैं मचलती हैं आगे ही बढ़ते जाती हैं …..

2 Likes · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
हाँ, नहीं आऊंगा अब कभी
gurudeenverma198
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अहसास तेरे होने का
अहसास तेरे होने का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
#प्रासंगिक
#प्रासंगिक
*Author प्रणय प्रभात*
लीकछोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
लीकछोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
"लेखनी"
Dr. Kishan tandon kranti
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
*An Awakening*
*An Awakening*
Poonam Matia
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
"The Deity in Red"
Manisha Manjari
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
नींद
नींद
Diwakar Mahto
कभी किसी की मदद कर के देखना
कभी किसी की मदद कर के देखना
shabina. Naaz
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
Phool gufran
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
आज तुम्हारे होंठों का स्वाद फिर याद आया ज़िंदगी को थोड़ा रोक क
पूर्वार्थ
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
Neet aspirant suicide in Kota.....
Neet aspirant suicide in Kota.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...