Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

मैं ना जाने क्या कर रहा…!

मैं, ना जाने क्या कर रहा,
मुझे ना ये संभाल रहा,
कोशिशें मैं कर रहा,
पर मन मेरा बिखर रहा,

खामोश मैं अब चल रहा,
हर काम में विफल रहा,
अकेला अब मैं पड़ रहा,
गलतियों से लड़ रहा,

हर पल मुझे सहमा रहा,
डर मुझ में समा रहा,
कलेजा मेरा जल रहा,
उनको मैं ना खा रहा,

दुनिया से अब हार रहा,
उनके शब्दो को मार रहा,
शांति मैं बस चाह रहा,
वो मुझ पर घुर्रा रहा,

मैं उनसे हूं लड़ रहा,
मेरी चोटों को पढ़ रहा,
धीरे से मैं कर्म कर रहा,
सवाल खुद से कर रहा,
मैं ना जाने क्या कर रहा…!

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाय के दो प्याले ,
चाय के दो प्याले ,
Shweta Soni
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
*पियक्कड़* (हास्य कुंडलिया)
*पियक्कड़* (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
सब दिन होते नहीं समान
सब दिन होते नहीं समान
जगदीश लववंशी
बदल गयो सांवरिया
बदल गयो सांवरिया
Khaimsingh Saini
"वो लॉक डाउन"
Dr. Kishan tandon kranti
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
कवि रमेशराज
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
ईश्वर बहुत मेहरबान है, गर बच्चियां गरीब हों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙅पहचान🙅
🙅पहचान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
सत्य कुमार प्रेमी
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
May 3, 2024
May 3, 2024
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
आदमी बेकार होता जा रहा है
आदमी बेकार होता जा रहा है
हरवंश हृदय
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
2840.*पूर्णिका*
2840.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
Loading...