Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2023 · 1 min read

मैं तुलसी तेरे आँगन की

मैं तुलसी तेरे आँगन की
घर आँगन की बगिया महकी ,
शुद्ध पवित्र हरी तुलसी मंजरी ,
विष्णु प्रिया संग तुलसी महारानी ,
शालिग्राम संग ब्याह रचाती ,
शुचित मन शोभित घर आँगन की

जीवन निर्मल पावन धरा करती ,
दया प्रेम करुणा वात्सल्य बहाती,
पूजन अर्पण सर्वस्व स्वीकारती,
शुद्ध प्राण वायु शक्ति मुक्ति देती ,
जन मन धन सुखदात्री की।

राम श्याम विष्णु प्रिया पत्तियाँ ,
नित्य शालिग्राम पे तुलसी चढती,
रोग शोक विध्न बाधा दूर करती,
तुलसी सींचन पूजन सौभाग्य देती
सतयुग त्रेता द्वापर कलयुग की।

नटखट श्याम दूल्हा बने हुए ,
माथे मोर मुकुट मंजरी सोहे ,
गले वैजयंती माला विराजे ,
विष्णु तन पीताम्बर सोहे ,
तुलसी की बेंदी चमकी चुनरी ओढ़ी ली मनभावन की ।

शशिकला व्यास ✍
भोपाल मध्यप्रदेश

206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंततः कब तक ?
अंततः कब तक ?
Dr. Upasana Pandey
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
एक शेर
एक शेर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हौसला अगर बुलंद हो
हौसला अगर बुलंद हो
Paras Nath Jha
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भाई बहन का रिश्ता बचपन और शादी के बाद का
भाई बहन का रिश्ता बचपन और शादी के बाद का
Rajni kapoor
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पृथ्वी दिवस पर
पृथ्वी दिवस पर
Mohan Pandey
कोई चाहे तो पता पाए, मेरे दिल का भी
कोई चाहे तो पता पाए, मेरे दिल का भी
Shweta Soni
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पिता एक सूरज
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...