Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2017 · 2 min read

अनगढ आवारा पत्थर

मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।

मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर,
फेंक दिया इस धरा पर।
पूर्वजन्म के संस्कार,
ले आए जाने किस पार ।
सांसों का चल निकला सार,
बहने लगी जीवन की धार ।
समझ सका ना इस पार,
निर्दोश-अबोध कहलाया यार।
बेसुध ही रह गया पत्थर,
मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।

जननी-जनक ने लिया संभाल,
असहाय की बन गए ढाल।
निज गुणों का सार निकाल,
बेढंगे में दिया उनको डाल।
भाई-बहनों का प्यार कमाल,
करे तिरछी नजर – किसकी मजाल।
समाज बिछाने लगा अपना जाल,
दुनिया की समझ आने लगी चाल।
अनगढ आवारा नहीं रहा पत्थर,
गढ रहा था समाज अब पत्थर।
मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।

शिक्षकों ने अपार समझाया,
शिक्षा का सागर छलकाया।
संसारी ज्ञान भले कम पाया,
कई साल तक अव्वल आया।
नई तकनीक ने जाल फैलाया,
बुद्धि ने था कदम बढाया।
‘कुछ’ होने का लक्ष्य बनाया,
गजब आत्मविश्वास को पाया।
ज्ञान की चमक में पड गया पत्थर,
करवट लेने लगा था पत्थर।
मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।

संगत दोस्तों की अच्छी पाई,
सद्कर्मांे से यारी लगाई।
सदा साथ रही सच्चाई,
हर मोड पर झूठ हराई।
श्रद्धा विश्वास की राह अपनाई,
ईज्जत करी और ईज्जत कराई।
कई धोखों से मार भी खाई,
हर एक ने सीख सिखाई।
चमक की रगड से पत्थर,
चमक पाने लगा था पत्थर।
मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।

गुरुजी ने चमक पहचानी,
पत्थर होने लगा अब पानी।
जीवन परीक्षाआंे की कहानी,
छूट चली सब राह पुरानी।
सुप्त-द्वारों की राह निशानी,
कृपा हुई – ‘ध्यान विधियाॅं’ जानी।
पूर्ण समर्पण की जिन्दगानी,
मन्त्र पाया यह गुरु जुबानी।
‘हीरे’ की चमक में आया पत्थर,
‘हीरे’ की संज्ञा पा रहा था पत्थर ।
मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।

अद्र्धांगिनी का संग भरपूर,
प्रेम में रहने लगे सदैव चूर।
सखी-मां-बेटी बनी हूर,
झुका दिए कई मगरूर।
‘गौरी-शंकर’ शिखर मशहूर,
दिखाई भले दिया हो दूर।
चढने का जो लगा शुरूर,
कदम चूम किया मजबूर।
‘हीरा’ बना पडा था पत्थर,
तराशा ‘हीरा’ ना रहा था पत्थर ।
मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।

संतान मिली आखरी पडाव में,
जीवन-ज्ञान बहाया बहाव में।
बनते-बिगडते रिश्तों के गाॅंव में,
जीने का ढंग सिखाया चाव में।
सुख-दुख उतर आया पाॅंव में,
जा चढा ‘सन्यासी’ नाव में।
वास हुआ ‘मौन’ की छाॅंव में,
परमात्मा बरसा ‘शून्य’ ठहराव में।
अस्तित्व में बिखरा ‘हीरा’ बना पत्थर,
अन्तिम शब्द रहे –
‘‘ मैं ………. अनगढ आवारा पत्थर।।।’

आज दिनांक 10.03.2017 को अपने तथाकथित जीवन के 38 वर्ष पूरे करने पर 15 अगस्त 2004 को रचित यह कविता आपके सम्मुख प्रस्तुत की है। कृपा अपनी राय जरुर देंवें। धन्यवाद, आपका –
मा० राजेश लठवाल चिडाना (नैशनल अवार्डी) 9466435185

Language: Hindi
1 Like · 3 Comments · 415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
■ आज की मांग
■ आज की मांग
*प्रणय प्रभात*
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kumar lalit
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
ख़्बाब आंखों में बंद कर लेते - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
*रामचरितमानस का पाठ : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
शीश झुकाएं
शीश झुकाएं
surenderpal vaidya
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गणपति स्तुति
गणपति स्तुति
Dr Archana Gupta
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr .Shweta sood 'Madhu'
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
पूर्वार्थ
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दो जीवन
दो जीवन
Rituraj shivem verma
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...