Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

मैं घर आंगन की पंछी हूं

मैं घर आंगन की पंछी हूं
उड़ने की चाहत है मेरी
पर पंख कतरने की आदत
क्यों जालिम दुनिया है तेरी?
उन्मुक्त गगन को छूना है
बस यही आरजू है मेरी
शूल बिछे हों राहों में
रुकने की फितरत ना मेरी।
माता पिता के अरमानों को
पूरा करना चाहती हूं
लक्ष्य साधने की खातिर
मैं मस्त मगन हो जाती हूं।
जब सपने सच हो जाते हैं
तब गीत खुशी के गाती हूं
कभी शिक्षिका कभी डॉक्टर
कभी नर्स कहलाती हूं।
होठों पर मुस्कान लिए
जब ड्यूटी करने जाती हूं
पड़े नजर शैतानों की
मैं घुट घुट कर मर जाती हूं।
मुझको भी अधिकार मिला है
आजादी से जीने का
पर किस से अभिव्यक्त करूं
मैं अपना दुखड़ा सीने का?

Language: Hindi
1 Like · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुप्रभात प्रिय..👏👏
सुप्रभात प्रिय..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
उन अंधेरों को उजालों की उजलत नसीब नहीं होती,
उन अंधेरों को उजालों की उजलत नसीब नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
"शायरा सँग होली"-हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ ज़िंदगी मुग़ालतों का नाम।
■ ज़िंदगी मुग़ालतों का नाम।
*प्रणय प्रभात*
पिता एक सूरज
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
"प्रेमी हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
** स्नेह भरी मुस्कान **
** स्नेह भरी मुस्कान **
surenderpal vaidya
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
दूर क्षितिज के पार
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
टूटी बटन
टूटी बटन
Awadhesh Singh
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
15--🌸जानेवाले 🌸
15--🌸जानेवाले 🌸
Mahima shukla
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
कवि दीपक बवेजा
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दिल के कोने में
दिल के कोने में
Surinder blackpen
Loading...