Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।

गज़ल

1212/1212/1212/1212
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
तुम्हारा जिक्र होगा जब हमारा नाम आएगा।1

हमीं तुम्हीं रहेंगे यार लोगों की जुबान पर,
कोई हमें कोई तुम्हें जरुर गुनगुनाएगा।2

गजल व गीत बन के हम करेंगे दिल की बात जब,
सुनेगा जो भी एक बार खुल के खिल खिलाएगा।3

कि डूबना ही तय है इसमें कोई शक शुबा नहीं,
नदी न जिसने देखी होगी कैसे तैर पाएगा।4

बनोगे प्रेमी प्यार के तो जिंदगी हसीन है,
जो प्यार में पलेगा वो खुशी के गीत गाएगा।5

…………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
आई तेरी याद तो,
आई तेरी याद तो,
sushil sarna
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2727.*पूर्णिका*
2727.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
"" *प्रेमलता* "" ( *मेरी माँ* )
सुनीलानंद महंत
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
ख़ुदा करे ये कयामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये कयामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रदीप माहिर
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
कलम की दुनिया
कलम की दुनिया
Dr. Vaishali Verma
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*आई वर्षा खिल उठा ,धरती का हर अंग(कुंडलिया)*
*आई वर्षा खिल उठा ,धरती का हर अंग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
शब्द अनमोल मोती
शब्द अनमोल मोती
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
अन्याय के आगे मत झुकना
अन्याय के आगे मत झुकना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
ना जाने क्यों...?
ना जाने क्यों...?
भवेश
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
Loading...