Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 2 min read

*मैं किसान हूँ : श्री रमेश कुमार जैन से काव्य पाठ का आनंद*

मैं किसान हूँ : श्री रमेश कुमार जैन से काव्य पाठ का आनंद
________________________________________
श्री रमेश कुमार जैन जहाँ एक ओर इतिहासकार के रूप में प्राचीन रामपुर के रहस्यों को उजागर करने में लगे रहते हैं तथा अपनी अध्ययन शीलता से इतिहास के विस्मृत प्रष्ठों को प्रकाश में लाने का काम करते हैं , वहीं दूसरी ओर आपका कवि हृदय अनेकानेक विषयों पर अपनी लेखनी चलाता रहता है। अभी कुछ समय पहले आपने एक कविता मैं किसान हूँ शीर्षक से किसानों के संबंध में लिखी। इसमें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा किसानों की स्थिति में सुधार लाने के लिए तीन ऐतिहासिक कानून बनाए जाने को समर्थन दिया गया है। आज मेरी दुकान पर मुझे आपके श्रीमुख से मैं किसान हूँ कविता सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ । कविता के चौथे खंड में आपने एक किसान के रूप में अपने तथा देश भर के किसानों के मनोभावों को इन शब्दों में अभिव्यक्त किया है :-

मैं जब चाहूँ
जहाँ चाहूँ
जैसे चाहूँ
जिस मूल्य पर चाहूँ
उगाया सोना बेच सकता हूँ।
कविता में किसान के परिश्रम तथा उसकी अभिलाषाओं को स्वर दिया गया है। अंत में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को किसानों के संरक्षक के रूप में स्वीकार करते हुए किसानों को समृद्धि की ओर ले जाने की कामना व्यक्त की गई है।
बातचीत में श्री रमेश कुमार जैन ने किसानों के पक्ष में बनाए गए कानूनों की प्रशंसा की और कहा कि किसानों को अब पूरे देश में कहीं भी अपनी उपज बेचने का अधिकार है ।
रमेश कुमार जैन साहब का आम का विशाल बाग आनंद वाटिका के नाम से बरेली रोड,रामपुर पर है । आगापुर(रामपुर) में बड़ा खेत है जहाँ गेहूँ की खेती होती है।
परिश्रमी श्री रमेश कुमार जैन साहब जाड़ों के मौसम में भी सुबह पाँच बजे उठ जाते हैं , नहाते हैं और उसके बाद स्कूटर पर बैठ कर खेत की ओर निकल जाते हैं । लौट कर आते हैं तो दस बज जाते हैं । आपकी कविता मैं किसान हूँ वास्तव में आपके परिश्रमी तथा जमीन से जुड़े हुए मानस की उपज है । बधाई श्री रमेश कुमार जैन जी
_____________________________________
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
"ओ मेरी लाडो"
Dr. Kishan tandon kranti
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
कोई गुरबत
कोई गुरबत
Dr fauzia Naseem shad
गांव में फसल बिगड़ रही है,
गांव में फसल बिगड़ रही है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
संगदिल
संगदिल
Aman Sinha
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
कवि रमेशराज
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
वह बरगद की छाया न जाने कहाॅ॑ खो गई
VINOD CHAUHAN
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
मेरे पिताजी
मेरे पिताजी
Santosh kumar Miri
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*पॉंच दोहे : पति-पत्नी स्पेशल*
*पॉंच दोहे : पति-पत्नी स्पेशल*
Ravi Prakash
Loading...