Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2022 · 1 min read

मैं कही रो ना दूँ

अगर तु ना मिले मुझे
मैं कही रो ना दूँ।
जो है मेरे पास
कही उसे भी मैं खो ना दूँ।

हे दर्द सीने में इतना ।।
ना देखु तुझे कही
अपना आपा भी मैं खो ना दूँ।
देख तुझे कही
होश भी अपना, मैं खो ना दूँ।

हे जो दिल में मेरे
लगता हे अब ऐसा क्यो?
पाके तुझे सचमुच कही
तुझे मैं खो ना दूँ।
अगर तु ना मिले मुझे
मैं कही रो ना दूँ।
जो हे मेरे पास
कही उसे भी मैं
खो ना दूँ।…….

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
DESH RAJ
कौन सुने फरियाद
कौन सुने फरियाद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
Trying to look good.....
Trying to look good.....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कौन है वो .....
कौन है वो .....
sushil sarna
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
मां
मां
Amrit Lal
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
सनम
सनम
Satish Srijan
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे माता-पिता
मेरे माता-पिता
Shyam Sundar Subramanian
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*Author प्रणय प्रभात*
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
Ravi Prakash
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
सुभाष चंद्र बोस जयंती
सुभाष चंद्र बोस जयंती
Ram Krishan Rastogi
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुशी और गम
खुशी और गम
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
तुम्हें आभास तो होगा
तुम्हें आभास तो होगा
Dr fauzia Naseem shad
आज़ादी का जश्न
आज़ादी का जश्न
Shekhar Chandra Mitra
Loading...