Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2017 · 1 min read

मैं औऱ वो

मै नजरो से नजरे मिलाता रहा
वो नजरो से नजरे चुराती रही

मै उसे देखकर यू मचलता रहा
वो मुझे देखकर मुस्कुराती रही

मैं हुस्न की अदा पर मरता रहा
वो मुझे मोहब्बत में फसाती रही

मैं दिन भर उसे याद करता रहा
वो रात भर मुझे याद आती रही

मैं खुद की निगाहों से बचता रहा
वो दिल पर हुकूमत चलाती रही

मैं चेहरे को चाँद समझता रहा
वो गगन का चाँद दिखाती रही

मै खुद रुठकर मान जाता रहा
वो सच मानकर रुठ जाती रही

मैं सिद्दत से उसको बुलाता रहा
वो ख़ुशी से मुझे छोड़ जाती रही

मैं उससे इधर वफाई करता रहा
वो मुझे उधर बेवफा बताती रही

मै अपनी मोहब्बत यूँ लिखता रहा
वो वही गीत महफ़िल में गाती रही

Language: Hindi
1 Comment · 448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
जागो रे बीएलओ
जागो रे बीएलओ
gurudeenverma198
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
वो सबके साथ आ रही थी
वो सबके साथ आ रही थी
Keshav kishor Kumar
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
वारिस हुई
वारिस हुई
Dinesh Kumar Gangwar
प्रेमी ने प्रेम में हमेशा अपना घर और समाज को चुना हैं
प्रेमी ने प्रेम में हमेशा अपना घर और समाज को चुना हैं
शेखर सिंह
उछल कूद खूब करता रहता हूं,
उछल कूद खूब करता रहता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
गुलाबों का सौन्दर्य
गुलाबों का सौन्दर्य
Ritu Asooja
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
3006.*पूर्णिका*
3006.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जागृति
जागृति
Shyam Sundar Subramanian
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
शिक्षकों को प्रणाम*
शिक्षकों को प्रणाम*
Madhu Shah
Loading...