Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है

मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
जब भी मैं बहुत थक जाता हूं तब चाय पी जाती है

कोई कहीं ना उसके जैसा , ऐसा वो साथ निभाती है
टूटे हुए दिल के तारों को सुई बनकर के सी जाती है

▀▄▀▄✍️Dr Deepak saral☑️▄▀▄▀

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
Subhash Singhai
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*खिलता है जब फूल तो, करता जग रंगीन (कुंडलिया)*
*खिलता है जब फूल तो, करता जग रंगीन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
कण कण में है श्रीराम
कण कण में है श्रीराम
Santosh kumar Miri
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिवर्तन
परिवर्तन
लक्ष्मी सिंह
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
यूं ना कर बर्बाद पानी को
यूं ना कर बर्बाद पानी को
Ranjeet kumar patre
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
Loading...