Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Dec 2023 · 1 min read

मैं अकेला महसूस करता हूं

मैं अकेला महसूस करता हूं
भीड़ में भी अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस होने को
अच्छा महसूस करता हूं ।
दिनचर्या का किसी को कोई हिसाब नही
चलते फिरते लोगो से बातें कर लेता हूं
जब जैसे जी चाहे वैसे जीता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं ।
न आगे नाथ न पीछे पगहा जैसी कहावतों पर
मैं जोर–जोर से हंसता हूं
अपने होने को कोई काम समझ लेता हूं
और खुश होता हूं की
मैं अकेला महसूस करता हूं ।
सफर को मंजिल जान कर
सफर का पूरा आनंद लेता हूं ,
अकेलेपन से अकेले भिड़ता हूं
कठिन समय से परेशान न होकर
मुस्कुरा कर हल सोचता हूं ।
मैं खुश हूं कि,मैं अकेला महसूस करता हूं ।।

146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि  ...फेर सेंसर ..
एडमिन क हाथ मे हमर सांस क डोरि अटकल अछि ...फेर सेंसर .."पद्
DrLakshman Jha Parimal
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हाथ में खल्ली डस्टर
हाथ में खल्ली डस्टर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
'हक़' और हाकिम
'हक़' और हाकिम
आनन्द मिश्र
ज़िंदगी तुझको
ज़िंदगी तुझको
Dr fauzia Naseem shad
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
तुझे पाने की तलाश में...!
तुझे पाने की तलाश में...!
singh kunwar sarvendra vikram
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शीर्षक - सच (हमारी सोच)
शीर्षक - सच (हमारी सोच)
Neeraj Agarwal
""बहुत दिनों से दूर थे तुमसे _
Rajesh vyas
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
Loading...