Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

मैंने गाँधी को नहीं मारा ?

मैंने गाँधी को नहीं मारा ?

बड़ी बेशर्मी से कहते हो

सत्य अहिंसा से डरते हो

नफरत का जहर बोते हो ?

मैंने गाँधी को नहीं मारा ?

बड़ी बेशर्मी से

बिच बाजार चौराहा गोली मारी

नतमस्तक होके ख़तम करो

यह कैसा यार रिवाज तुम्हारा ?

देशभाक्ति , समता बंधुता

सविनय असहकार प्यारा

बापू ने सही रास्ता दिखाया

फिर भी क्या किया पूछते हो ?

.

मैंने गाँधी को नहीं मारा ?

कल तक कहनेवाले आज तो

खुलेआम समर्थन में जुटे हैं

सच बोलो दो फाक हम क्यों बटे हैं ?

.

मैंने गाँधी को नहीं मारा ?

कहनेवाले तो गुनहगार हैं ही

बापू अपमान सहनेवालेही उतनेही

गुनहगार हैं बापू तुम्हारे सिपाही कहा गये ?

क्या तुम्हारी शहादत बेकार गई ?

सोचा था क्या यही लोग कल निक्कमे गुलाम

तुम्हारे राहपर चलना तो दूर रोड़ा बनेगे

हम सब चुपचाप तमाशा देखेंगे कब तक ?

मैंने गाँधी को नहीं मारा ?

कहनेवालों याद रखो गाँधी

कभी ख़तम होंगे ना उनके विचार

लाख कर लो कोशिश जीत हमारी बेशक

Language: Hindi
20 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसान का कोई दोष नही जो भी दोष है उसकी सोच का है वो अपने मन
इंसान का कोई दोष नही जो भी दोष है उसकी सोच का है वो अपने मन
Rj Anand Prajapati
मां शैलपुत्री
मां शैलपुत्री
Mukesh Kumar Sonkar
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
हम हिंदुओ का ही हदय
हम हिंदुओ का ही हदय
ओनिका सेतिया 'अनु '
ड्यूटी और संतुष्टि
ड्यूटी और संतुष्टि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिखते हैं कई बार
लिखते हैं कई बार
Shweta Soni
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
"पड़ाव"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत
बहुत
sushil sarna
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
The thing which is there is not wanted
The thing which is there is not wanted
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
Naushaba Suriya
#क़तआ_मुक्तक
#क़तआ_मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कांतिमय यौवन की छाया
कांतिमय यौवन की छाया
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
gurudeenverma198
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
Sarfaraz Ahmed Aasee
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
shabina. Naaz
लहर लहर लहराना है
लहर लहर लहराना है
Madhuri mahakash
Loading...