Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2022 · 1 min read

मेरे हर सिम्त जो ग़म….

मेरे हर सिम्त जो ग़म का तूफ़ान है,
ये किसी की मुहब्बत का एहसान है।।

अब सियासत की मंडी में चारों तरफ़,
बिक रहा नफ़रतों का ही सामान है।।

नाम रख लो कोई, फ़र्क़ पड़ता है क्या?
एक मालिक ही सबका निगहबान है।।

देखकर लग रहा आज के हाल को,
खो गयी आदमीयत की पहचान है।।

एक अरसा हुआ उनको देखे हुए,
जिन पे अब तक फ़िदा ये मेरी जान है।।

मुश्किलों का है पहरा क़दम-दर-क़दम,
ज़िन्दगी अब कहाँ इतनी आसान है।।

उनका इतना करम मुझ पे कम तो नहीं,
“अश्क”से बन गयी मेरी पहचान है।।

© अशोक कुमार अश्क चिरैयाकोटी
दि०:01/05/2022

1 Like · 425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दोस्ती क्या है?"
Pushpraj Anant
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
माता शबरी
माता शबरी
SHAILESH MOHAN
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बीन अधीन फणीश।
बीन अधीन फणीश।
Neelam Sharma
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
अश्लील वीडियो बनाकर नाम कमाने की कृत्य करने वाली बेटियों, सा
अश्लील वीडियो बनाकर नाम कमाने की कृत्य करने वाली बेटियों, सा
Anand Kumar
प्रोत्साहन
प्रोत्साहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
पूर्वार्थ
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
किसी को जिंदगी लिखने में स्याही ना लगी
कवि दीपक बवेजा
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
जी लगाकर ही सदा
जी लगाकर ही सदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...