Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 2 min read

“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”

डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
======================
चाहता हूँ सबको अपना दोस्त बना लूँ
सबको अपने हृदय के कोने में बसा लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ
चाहता हूँ सबको अपना दोस्त बना लूँ
सबको अपने हृदय के कोने में बसा लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ !!
प्रेम की बंसी बजे
प्यार सबको हम करे
मिलके हम सब रहे
सब की पूजा हम करे
प्रेम की बंसी बजे
प्यार सबको हम करे
मिलके हम सब रहे
सब की पूजा हम करे !!
चाहता हूँ मंदिर मस्जिद साथ सजा दूँ
सब मिल कर धरा को स्वर्ग बना लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ
चाहता हूँ सबको अपना दोस्त बना लूँ
सबको अपने हृदय के कोने में बसा लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ !!
रंग भेद ना चाहिए
विश्व शांति लाइए
सम्मान सबका कीजिए
दिल सभी का जीतिए
रंग भेद ना चाहिए
विश्व शांति लाइए
सम्मान सबका कीजिए
दिल सभी का जीतिए !!
चाहता हूँ कि परिसीमाओं को मिटा दूँ
सब दीवारें जो खड़ीं हैं उसको गिरा दूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ
चाहता हूँ सबको अपना दोस्त बना लूँ
सबको अपने हृदय के कोने में बसा लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ !!
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो
भाषाओं से जुड़ना सीखो
अपनों से मुँह ना मोड़ो
उनके दिल को तुम ना तोड़ो
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो
भाषाओं से जुड़ना सीखो
अपनों से मुँह ना मोड़ो
उनके दिल को तुम ना तोड़ो !!
चाहता हूँ कि जख्मों पर पट्टी लगा दूँ
राहत मिले उन्हें बस अपना बना लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ
चाहता हूँ सबको अपना दोस्त बना लूँ
सबको अपने हृदय के कोने में बसा लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ !!
आपस में क्यों लड़ें
अपनों से क्यों भिड़ें
उसकाने पर क्यों करें
लोगों से क्यों डरें
आपस में क्यों लड़ें
अपनों से क्यों भिड़ें
उसकाने पर क्यों करें
लोगों से क्यों डरें !!
चाहता हूँ विश्व से असहिष्णुता मिटा दूँ
सबको प्यार का मंत्र मैं कंठस्थ करा दूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ
चाहता हूँ सबको अपना दोस्त बना लूँ
सबको अपने हृदय के कोने में बसा लूँ
गाँव हो या शहर प्रांत होया सारा जहां
सब मिलकर एक नयी दुनिया बसा लूँ !!
==========================
डॉ लक्ष्मण झा “ परिमल “
साउन्ड हेल्थ क्लिनिक
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
23.09.2022.

Language: Hindi
1 Like · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सरस रामकथा*
*सरस रामकथा*
Ravi Prakash
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
सन्यासी का सच तप
सन्यासी का सच तप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
शमशान और मैं l
शमशान और मैं l
सेजल गोस्वामी
खुद को इतना हंसाया है ना कि
खुद को इतना हंसाया है ना कि
Rekha khichi
सिंदूरी भावों के दीप
सिंदूरी भावों के दीप
Rashmi Sanjay
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
*अयोध्या के कण-कण में राम*
*अयोध्या के कण-कण में राम*
Vandna Thakur
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ यक़ीन मानिए...
■ यक़ीन मानिए...
*Author प्रणय प्रभात*
सभी फैसले अपने नहीं होते,
सभी फैसले अपने नहीं होते,
शेखर सिंह
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
खेल खिलौने वो बचपन के
खेल खिलौने वो बचपन के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सचमुच"
Dr. Kishan tandon kranti
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
मैदान-ए-जंग में तेज तलवार है मुसलमान,
Sahil Ahmad
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
" बस तुम्हें ही सोचूँ "
Pushpraj Anant
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
कोई आदत नहीं
कोई आदत नहीं
Dr fauzia Naseem shad
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मन
मन
Ajay Mishra
Loading...