Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2018 · 1 min read

मेरे शहर की सड़क

मेरी शहर की सड़क को क्या हो गया

जिसे देखो वही इस पर फिदा हो गया

है हरजाई सा इसका स्वाभाव हो गया

जिसको भी अच्छी लगी संग सो गया

***

कोई दोस्ती दुश्मनी का बीज बो गया

है मासूम सा बच्चा इसी पर खो गया

कोई वदन पे लगा हुआ दाग धो गया

जब गया यहां से बाग- बाग हो गया

***

था जब से आ गया यहीं का हो गया

न जा सका कहीं नहीं कहीं तो गया

यहां पे नहीं जो होना था वो हो गया

लगी थी बड़ी भूख चुपचाप सो गया

***

है बचपना यहां फूट फूट कर रो गया

रोने का अन्दाज न दिल को छू गया

सड़क का था वो सड़क का हो गया

जितना होना था उसे उतना हो गया

***

है कब बढ़ा व कब बुढ़ापा आ गया

बचपना उसका कब का चला गया

उम्र की सब सीढ़ियां यहीं चढ़ गया

जीवन की सब पढ़ाई यहीं पढ़ गया

***

है किसी का रंग किसी पर चढ़ गया

मिले बहुत बार फिर भी बिछुड़ गया

है न कुछ होते हुए सब कुछ हो गया

मिले एक बार फिर सदा का हो गया

***

सामने आ कर वो रास्ता बदल गया

जाना था कहीं और चला कहीं गया

यारी बहुत पर दुश्मनों से मिल गया

सच बोलना था मुंह को सिल गया

***

न कुछ मिले तो सड़क पर आ गया

उसको तो इसका फुटपाथ भा गया

है चलता राहगीर तो तरस खा गया

रखा हुआ कटोरा सिक्के गिरा गया

***

रामचन्द्र दीक्षित’अशोक’

Language: Hindi
265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
यही सोचकर आँखें मूँद लेता हूँ कि.. कोई थी अपनी जों मुझे अपना
Ravi Betulwala
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर दिन माँ के लिए
हर दिन माँ के लिए
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मेरे प्रेम पत्र 3
मेरे प्रेम पत्र 3
विजय कुमार नामदेव
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
एक क़ता ,,,,
एक क़ता ,,,,
Neelofar Khan
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*होते यदि सीमेंट के, बोरे पीपा तेल (कुंडलिया)*
*होते यदि सीमेंट के, बोरे पीपा तेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
बालबीर भारत का
बालबीर भारत का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बंद पंछी
बंद पंछी
लक्ष्मी सिंह
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
रमेशराज के चर्चित राष्ट्रीय बालगीत
कवि रमेशराज
"समय बहुत बलवान होता है"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...