Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2017 · 1 min read

!!!! मेरे शब्द–बड़ों के संस्कार !!!!!

आनन्द तो पथरीले राह में
चलने से मिलता है
सुगमता की राह पर तो
हर कोई चलता है….

गिर कर अगर न उठे
तो क्या फायदा
गिरते को अगर नहीं
उठाया तो इंसान होने का क्या फायदा

कोशिश कभी नाकामयाब
नहीं हुआ करती
तुम जीते जी क्यूं मर रहे हो
हिम्मत से आगे बढ़ो मंजिल जरूर मिलेगी

राह में रोड़ा तो हर कोई
अटका देता है
मजा तो तब है, कि रास्ते के
पत्थर को उठा के राह सुगम बनाओ…

प्यासे को पानी हर कोई पिला देता
है, कभी घर के बाहर
कुत्ते, पशु , पक्षी के पानी पिने
का जरीया बनाओ, शान्ति मिलेगी आपको…

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
■ सामयिक / रिटर्न_गिफ़्ट
■ सामयिक / रिटर्न_गिफ़्ट
*Author प्रणय प्रभात*
3207.*पूर्णिका*
3207.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
हाँ, मैं कवि हूँ
हाँ, मैं कवि हूँ
gurudeenverma198
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
लवकुश यादव "अज़ल"
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
Manisha Manjari
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
*गोरे से काले हुए, रोगों का अहसान (दोहे)*
Ravi Prakash
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
Surinder blackpen
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
Buddha Prakash
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
Loading...