Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

‘मेरे बिना’

‘मेरे बिना’

चलो तुम्हीं रौशन कर दो इन शमाओं को ,
मुझपे इलज़ाम लगा था इन्हें बुझाने का ,
गर इतना ही शऊर है तुमको उजाले लाने का तो
यक़ीन मानों ये शमाएं बुझती ही न मेरे हाथों से ,
चलो जाओ जो घर मुझसे था ,
मेरे बिना ही उसको फिर रौशन कर लो |

द्वारा – नेहा ‘आज़ाद’

3 Likes · 155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
माँ का निश्छल प्यार
माँ का निश्छल प्यार
Soni Gupta
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
शेखर सिंह
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2358.पूर्णिका
2358.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
कृष्णकांत गुर्जर
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
नेताम आर सी
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
अगर दुनिया में लाये हो तो कुछ अरमान भी देना।
Rajendra Kushwaha
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
Phool gufran
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
हमारे प्यारे दादा दादी
हमारे प्यारे दादा दादी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
"बे-दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदना ही सौन्दर्य है
संवेदना ही सौन्दर्य है
Ritu Asooja
Loading...